शिक्षानगरी में राय साहब कन्हैया लाल जी का 152वां जन्म दिवस बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाया गया, वक्ताओं ने कहा राय साहब एक विलक्षण व्यक्तित्व वाले महापुरुष रहे

रुड़की । शिक्षानगरी रुड़की की अति प्राचीन संस्था कन्हैया लाल डी०ए०वी० इण्टर कॉलेज के संस्थापक राय साहब कन्हैया लाल जी का 152वाँ जन्म दिवस बड़े हर्षोल्लास के साथ कोविड-19 की गाईडलाईन एवं सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए विद्यालय प्रागंण में मनाया गया। कार्यक्रम का शुभारम्भ हवन के साथ हुआ तत्पश्चात राय साहब कन्हैया लाल जी की प्रतिमा पर डॉ० डी०बी० गोयल (अध्यक्ष प्रबन्ध समिति), श्री प्रमोद दयाल (प्रबन्धक), अतुल कुमार (सहप्रबन्धक) मनोज कुमार सैनी (प्रधानाचार्य) सुषमा गर्ग एवं स्टाफ के द्वारा माल्यार्पण एवं श्रद्धासुमन अर्पित किए गए । डॉ० शालिनी त्रिपाठी ने राय साहब कन्हैया लाल जी के जीवन पर प्रकाश डाला। इस अवसर पर डॉ० डी०बी० गोयल (अध्यक्ष प्रबन्ध समिति) ने राय साहब कन्हैया लाल जी के विषय में कहा कि राय साहब एक विलक्षण व्यक्तित्व वाले महापुरुष थे। वह शिक्षा के महान पुजारी थे। उन्होंने यह महसूस किया कि शिक्षा के बिना व्यक्ति की उन्नति व देश का विकास नहीं हो सकता। इसलिए उन्होंने रुडकी नगर में कन्हैया लाल इण्टर कॉलेज, कन्हैया लाल डिग्री कॉलेज एवं कन्हैया लाल पॉलिटेक्निक की स्थापना कर रुड़की नगरी को शिक्षा नगरी बनाने में अपना योगदान दिया। इन संस्थाओं से शिक्षित व प्रशिक्षित छात्र-छात्रायें देश में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी देश के गौरव को बढ़ा रहे हैं।प्रमोद दयाल (प्रबन्धक) ने कहा कि राय साहब असाधारण व्यक्ति थे। यदि यह कहा जाये कि कन्हैया लाल जी एक व्यक्ति नहीं अपितु एक संस्था थे, इसमें कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी। राय साहब कुशल व्यवसायी होने के साथ-साथ एक उदार हृदय वाले इंसान, परोपकारी व शिक्षा के महत्त्व को समझने वाले थे। उन्होंने रुड़की नगर में तीन-तीन संस्थाओं की स्थापना कर समाज सेवा और विद्या दान का जो कार्य किया है संसार उसे हमेशा याद रखेगा। प्रधानाचार्य मनोज सैनी ने उपस्थित अतिथियों का आभार व्यक्त किया व कार्यक्रम संयोजक राजेश कुमार वर्मा, सहसंयोजक गौरी शंकर गुप्ता को कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए बधाई दी। कार्यक्रम का संचालन डॉ० शालिनी त्रिपाठी ने किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.