योग भारत की प्राचीन परंपरा का अद्भुत उपहार: सुशील त्यागी, त्यागी विकास एवं कल्याण सभा उत्तराखंड द्वारा योग दिवस पर कार्यक्रम आयोजित हुआ

रुड़की । योग भारत की प्राचीन परंपरा का उपहार है यह दिमाग और शरीर की एकता का प्रतीक है भारतीय संस्कृति का प्राण है योग , स्वस्थ रहने का सशक्त माध्यम है योग। उक्त विचार आज विश्व योग दिवस पर “त्यागी विकास एवं कल्याण सभा उत्तराखंड” के तत्वाधान में हरिद्वार रोड रुड़की पब्लिक स्कूल में आयोजित योग दिवस के कार्यक्रम में समाज के प्रदेश अध्यक्ष सुशील त्यागी द्वारा व्यक्त किए गए। मां सरस्वती के सम्मुख दीप प्रज्वलित करते हुए समाज के वरिष्ठ उपाध्यक्ष मास्टर शिवकुमार त्यागी जी एवं त्यागी सभा उत्तराखंड के ऑडिटर श्रीमान सतीश त्यागी जी योगाचार्य अनुराधा त्यागी जी के द्वारा दीप प्रज्वलन करके योग दिवस का शुभारंभ किया गय। संस्कृत विश्वविद्यालय एम ए योगाचार्य अनुराधा त्यागी के द्वारा भारत सरकार के स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा अधिकृत 21 योग क्रियाओं को अनुराधा त्यागी जी ने सभी प्रशिक्षुओं को योगासन कराएं। योगाचार्य अनुराधा त्यागी जी के द्वारा बताया गया कि हम नित्य प्रति एक घंटा ब्रह्म मुहूर्त में अगर योग क्रियाओं को अपने जीवन का अभिन्न अंग बना ले तो हमारा इम्यूनिटी सिस्टम इतना सक्षम और स्ट्रांग हो जाएगा कि हम किसी भी वाह यह बीमारी से आसानी से लड़ सकते हैं इसलिए योग को अपनी नैतिक दिनचर्या का हिस्सा बनाएं। कार्यक्रम के समापन पर त्यागी विकास एवं कल्याण सभा के प्रदेश महामंत्री “प्रतोष त्यागी जी” के द्वारा सभी योग प्रशिक्षुओं को चीनी सामान के बहिष्कार करने की शपथ दिलाकर चीन से बने सभी सामान का विरोध संकल्प लिया गया। प्रदेश महामंत्री प्रतोश त्यागी द्वारा लद्दाख के गलवा घाटी में शहीद हुए 20 सैनिकों के प्रति भी मौन रखकर श्रद्धांजलि अर्पित की गई। इस कार्यक्रम में मुख्य रूप से बृजेश त्यागी फौजी बागेश्वर की मास्टर शिवकुमार त्यागी विकास त्यागी नितिन त्यागी मानिक त्यागी वैभव त्यागी प्रवेश त्यागी डॉक्टर अभिषेक त्यागी अशोक त्यागी गौरव त्यागीएवं चौधरी धीर सिंह जी व्यापार मंडल के अध्यक्ष आदरणीय अरविंद कश्यप जी सागर जी सुरेश जी बृज मोहन जी सचिन जी आदि सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने उक्त योग दिवस के कार्यक्रम में उपस्थित होकर कार्यक्रम को सफल बनाने में अपना योगदान दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *