कृषि कानूनों के विरोध में भाकियू अंबावत ने निकाली ट्रैक्टर रैली, जिलाधिकारी को सौंपा ज्ञापन, प्रदेश अध्यक्ष विकास सिंह सैनी ने कहा किसानों का उत्पीड़न बंद हो, निरस्त हो काले कानून

हरिद्वार । भारतीय किसान यूनियन (अंबावता) उत्तराखंड, प्रदेश अध्यक्ष विकास सिंह सैनी के नेतृत्व में सभी पदाधिकारियों एवं कार्यकर्ताओं ने केंद्र सरकार द्वारा बनाये गए कृषि के काले कानूनों के विरोध में ग्राम बुग्गावाला, कुडकावाला, बंदरजूड, डालुवाला, लाम, हाफसनगर, कोटा माछरहेडी, जसवावाला, धनौरी, तेलीवाला, औरंगाबाद, गढमीरपुर, आन्नेकी, हेत्तमपुर, से होकर जिलाधिकारी कार्यालय रोशनाबाद तक ट्रैक्टर मार्च निकाला। जिलाधिकारी कार्यालय पहुंचने पर भारतीय किसान यूनियन(अ) के प्रदेश अध्यक्ष विकास सिंह सैनी ने एक ज्ञापन जिलाधिकारी हरिद्वार को दिया जिसमें कहा गया है भारतीय किसान यूनियन अंबावता उत्तराखंड लगातार किसानों की आवाज उठा रही है। नियम कानून के नाम पर हरिद्वार की आम जनता व किसानों का उत्पीड़न किया जा रहा है। किसान बचाओ-देश बचाओ, जय जवान-जय किसान, के नारे को भूलकर विद्युत विभाग, चकबंदी, ट्रैफिक, पुलिस विभाग व बैंक आदि सही और गलत को ना देखते हुए हरिद्वार की जनता और किसानों की जेब खाली करने में लगे हुए हैं। इन विभागों द्वारा पूरी लूट की जा रही है। रुड़की शहर में इतने वाहन चालक भी नहीं है जितनी सीपीयू लगा दी गई है। आम आदमी कागज पूरे होते हुए भी सड़क पर चलने से घबरा रहा है। जिससे सड़क दुर्घटना बढ़ रही है। इसी क्रम में भारतीय किसान यूनियन अंबावत ने ज्ञापन के माध्यम से मांग की है की विद्युत विभाग द्वारा किया जा रहा है उपभोक्ताओं का उत्पीड़न बंद हो, सर चार्ज पूरी तरह से हटाया जाए। चकबंदी विभाग में लंबित पड़े मामले जल्दी सुनवाई कर निपटाए जाएं। सीपीयू द्वारा रुड़की में हो रही लूट मचाई शीघ्र बंद हो। किसान को कर्जा मुक्त किया जाए। ब्याज पर ब्याज ने लिया जाए। स्वामीनाथन आयोग के अनुसार फसल की लागत मूल्य पर 50% लाभ फार्मूले के तहत दिया जाए। गन्ना मिलों द्वारा शीघ्र से शीघ्र किसान के गन्ने का भुगतान किया जाए। ज्ञापन देने वालों में जिला संयोजक मुकेश कुमार काम्बोज, प्रदेश उपाध्यक्ष विनोद प्रजापति, ब्लॉक अध्यक्ष मोहन त्यागी, जिला अध्यक्ष पिछड़ा वर्ग अभिषेक, प्रतिनिधि प्रवीण, प्रदेश कोषाध्यक्ष मुकेश पुंडीर, प्रदेश प्रवक्ता प्रशांत सैनी, प्रदेश सचिव परविंदर आदि प्रमुख थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *