देश में आपातकाल लगाया जाना राजनीति के इतिहास का काला अध्याय था, आपातकाल के विरोध में भाजपा ने मनाया काला दिवस

हरिद्वार । भारतीय जनता पार्टी हरिद्वार द्वारा प्रदेश नेतृत्व के आह्वान पर कांग्रेस की तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की सिफारिश पर 25 जून 1975 को लगाए गए आपातकाल के विरोध में काला दिवस मनाया गया इस अवसर पर कांग्रेस के खिलाफ जोरदार नारेबाजी की गई। और प्रदर्शन किया गया चंद्राचार्य चौक पर आयोजित काला दिवस कार्यक्रम में राज्य जैविक उत्पाद परिषद के उपाध्यक्ष(राज्य मंत्री) और भाजपा के पूर्व जिलाअध्यक्ष ठाकुर सुशील चौहान ने कहा कि आज देश के लिए काला दिन है जिस प्रकार कांग्रेस की तत्कालीन नेता इंदिरा गांधी ने आज ही के दिन लोकतांत्रिक व्यवस्था से चुनी हुई सरकार को बर्खास्त करते हुए देश में इमरजेंसी लगाई थी वह लोकतंत्र के लिए काला धब्बा है। रातों-रात सरकार और कांग्रेस के खिलाफ संघर्ष करने वाले जनसंघ के नेताओं को जेल में डाल दिया गया था और उनकी आवाज को दबाने का काम कांग्रेस द्वारा किया गया था भारतीय जनता पार्टी कांग्रेश के इस कृत्य की भर्त्सना करती है। भाजपा के जिला महामंत्री विकास तिवारी ने कहा कि आज से ठीक 45 वर्ष पूर्व देश में कांग्रेस ने लोकतंत्र का गला घोटा था प्रेस के अधिकार सीज कर दिए गए थे और उस समय एक जन आंदोलन का नेतृत्व कर रहे जय प्रकाश नामक युवा को भी गिरफ्तार किया गया था और आपातकाल का विरोध कर रहे तत्कालीन जनसंघ के नेता अटल बिहारी वाजपेई,लालकृष्ण आडवाणी और भैरव सिंह शेखावत जैसे नेताओं को भी नजर बंद कर दिया गया था कोई भी व्यक्ति अपने किसी समस्या को लेकर न्यायालय में नहीं जा सकता था अतः आज के युवाओं को कांग्रेस और उनके नेताओं के चरित्र और उनकी सत्यता का पता लगना चाहिए। भाजपा की प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य अनु कक्कड़ ने कहा कि इंदिरा गांधी ने तत्कालीन संविधान में ऐसे संशोधन किए कि प्रधानमंत्री के खिलाफ कोई मुकदमा नहीं दर्ज करा सकता 39 वा संशोधन 7 अगस्त 1975 को केवल 2 घंटे में पारित कर दिया गया था। भाजपा के मंडल अध्यक्ष राजकुमार अरोड़ा और वीरेंद्र तिवारी ने कहा कांग्रेस ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ पर प्रतिबंध लगा दिया था आपातकाल और प्रतिबंध के विरुद्ध हुए सत्याग्रह में एक लाख से भी अधिक स्वयंसेवकों ने गिरफ्तारी दी थी और धीरे-धीरे कांग्रेस के खिलाफ एक आक्रोश पनपने लगा था और आपातकाल के बाद हुए आम चुनाव में कांग्रेस मात्र 153 सीटों पर सिमट गई थी और इंदिरा गांधी स्वयं चुनाव हार गई थी आज भी कुछ बुजुर्ग लोग उस समय के मंजर को याद करते हुए कॉप जाते है। इस मौके पर कनखल मंडल अध्यक्ष मयंक गुप्ता तरुण नैयर मृदुल कौशिक संजना शर्मा पार्षद राजेश शर्मा निशा पुंडीर संजय पुंडीर आभा शर्मा निशा पुंडीर श्रेय तलवार विशाल खेरवाल अनमोल बिरला विजयपाल प्रदीप मेहता अनिल पुरी राहुल शर्मा प्रीतकमल सारस्वत राकेश नौटियाल मोनिका सैनी हरिओम मल्होत्रा राघव गुप्ता तृप्ता शर्मा सविता यादव हैदर नकवी सुभाष सैनी नमन गोस्वामी विभोर बंसल आदि कार्यकर्ता उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *