कृषि आधारित कुटीर उद्योगों पर विद्युत दर एक रुपए यूनिट हो: चौधरी कटार सिंह

रुड़की । विद्युत नियामक आयोग से भारतीय किसान क्लब ने किसानों के कृषि आधारित कुटीर उद्योगों पर विद्युत बिल की दर एक रुपये प्रति यूनिट रखने की मांग की है। इस संबंध में क्लब ने लिखित मांग पत्र विद्युत नियामक आयोग के अध्यक्ष को दिया है। विद्युत नियामक आयोग उत्तराखंड ने वर्ष 2020-21 में प्रस्तावित बढ़ी विद्युत दरों पर शुक्रवार को जन सुनवाई के दौरान उपभोगताओं के सुझाव मांगे थे। विद्युत नियामक आयोग के कार्यवाहक अध्यक्ष को पत्र देकर किसान यूनियन के राष्ट्रीय अध्यक्ष कटार सिंह ने विद्युत दरों में बढ़ोतरी का विरोध किया और कहा कि किसान आर्थिक तंगी से जूझ रहे हैं। लोग खेती छोड़कर शहर की ओर पलायन कर रहे हैं। पलायन को रोकने के लिए विद्युत दरों में बढ़ोतरी की बजाय कटौती की जाए। खेती किसानी से जुड़े हुए कृषि आधारित उद्योग जैसे गन्ना कोल्हू नलकूप आटा चक्की मशरूम प्लांट सरसों की पेराई की मशीन डेयरी आदि पर विद्युत दर एक रुपये प्रति यूनिट रखी जाए। उन्होंने मांग की कि विद्युत कनेक्शन के मीटरिंग की व्यवस्था पारदर्शिता और समय पर होनी चाहिए। बिलिंग के समय ऑन स्पॉट आकर सही रीडिंग लेकर बिल देना चाहिए और विद्युत बिलों में आई त्रुटियों को तुरंत ठीक करने से विद्युत विभाग के राजस्व वसूली में निश्चित बढ़ोतरी होगी और इससे किसानों को भी लाभ होगा। उन्होंने कहा कि विद्युत दरों में बढ़ोतरी से किसानों से जुड़े उद्योग घाटे में जा रहे हैं और ग्रामीण युवा वर्ग का घाटे की वजह से खेती के प्रति मोहभंग हो रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *