संपर्क मार्गो को संवारेगी जिला पंचायत, ग्राम पंचायतों की स्वच्छता पर भी रहेगा विशेष ध्यान

रुड़की । जिला पंचायत संपर्क मार्गो को संवारने का काम शुरू करेगी। इसके साथ ही ग्राम पंचायतों की स्वच्छता पर विशेष ध्यान दिया जाएगा। जिला पंचायत अध्यक्ष सुभाष वर्मा ने कहा कि जरूरी नहीं कि जिला पंचायत को आवंटित बजट से ही विकास कराया जाए। जरूरत पड़ने पर अन्य विभागों को भी विकास कार्य के प्रस्ताव भेजे जाएंगे। विशेषकर लोक निर्माण विभाग से उन सभी सड़कों की मरम्मत के लिए कहा जाएगा जोकि क्षतिग्रस्त हैं और ग्रामीणों को उन पर आवागमन में दिक्कत आ रही है। उन्होंने बताया कि अभी पूरे जिले के संपर्क मार्गो की दशा पर रिपोर्ट मांगी गई है। रिपोर्ट आने के बाद संपर्क मार्गो को संवारने का काम अभियान के तौर पर चलेगा। इसके लिए शासन से अतिरिक्त बजट आवंटित कराया जाएगा। इस दौरान उन सभी मार्गों के बारे में भी जानकारी ली जाएगी। जिनका चौड़ीकरण होना जरूरी है। उन्होंने बताया कि बहुत ग्रामीण अंचल की बहुत सारी सड़कों का चौड़ीकरण होना जरूरी है। विशेषकर जिला पंचायत के जितने भी मार्ग का चौड़ीकरण हो सकता है । उनका प्राथमिकता से चौड़ीकरण कराया जाएगा। इसी के साथ जिला पंचायत की परिसंपत्तियों का ब्योरा भी तलब किया गया है। सभी परिसंपत्तियों का भौतिक सत्यापन किया जाएगा। जहां पर भी जिला पंचायत की परिसंपत्ति पर अवैध कब्जा है उसे पुलिस प्रशासन के सहयोग से खाली कराया जाएगा। उन्होंने कहा कि जिला पंचायत की संपत्ति का दुरुपयोग नहीं होने दिया जाएगा। ऐसे सभी मार्ग डालो कि जाएंगे जो कि मौके पर सिकुड़ते जा रहे हैं। शेरपुर तिराहा स्थित शनिदेव मंदिर से आदर्श नगर जिला पंचायत का मार्ग है। इस बारे में रिपोर्ट तलब की गई है। जल्द ही इस मार्ग का निरीक्षण किया जाएगा। देखा जाएगा कि इस मार्ग पर बाजार विकसित हो सकता है या नहीं। यदि बाजार विकसित हो सकता है तो शासन से अनुमति प्राप्त कर यह कार्य तेजी से कराया जाएगा। जिला पंचायत अध्यक्ष सुभाष वर्मा ने कहा कि हरिद्वार की जनता पर कोई किसी तरह का टैक्स नहीं थोपा जाएगा। पूर्व में लगाए गए टैक्सों की भी समीक्षा की जाएगी। जरूरी कर ही लिया जाएगा। उन्होंने बताया कि ग्रामीण अंचल के विकास में ग्राम पंचायतों का पूरा सहयोग लिया जाएगा। इस दौरान देखा जाए कि कि जो ग्राम पंचायत स्वच्छता पर अधिक ध्यान दे रही है। उसको मुख्यमंत्री और पंचायती राज मंत्री से पुरस्कार कराया जाएगा। गांव के अंदर के मार्गों की दशा भी देखी जाएगी । यदि ग्राम पंचायत बजट के अभाव में किसी बड़े मार्ग की मरम्मत नहीं करा पा रही है तो इस काम में जिला पंचायत ग्राम पंचायत का पूरा सहयोग करेगी। गांव की गलियों में गंदा पानी में बहे इसके लिए ग्राम पंचायतों से नाली और पुलिया का निर्माण कराया जाएगा । जिस ग्राम पंचायत के पास खुद का बजट होगा तो वह इस काम को खुद करा सकेंगी और यदि बजट का अभाव होगा तो उसकी जिला पंचायत से मदद कराई जाएगी। इसके बाद भी यदि बजट कम रहता है तो शासन से बजट दिलाया जाएगा। प्रत्येक गांव के पानी की निकासी सुचारू हो । इस बात पर पूरा ध्यान रखा जाएगा। गर्मी में पेयजल किल्लत ना हो इसके लिए संपर्क मार्गो पर सरकारी हैंडपंप भी लगवाए जाएंगे। भूगर्भ जल स्तर में सुधार हो इसके लिए तालाबों का पुनर्निर्माण कराया जाएगा। उन्होंने बताया कि पहले तहसील और इसके बाद ब्लॉक और न्याय पंचायत स्तर पर जनता दरबार लगाए जाएंगे। जिसमें सभी विभागों के अधिकारियों कर्मचारियों की मौजूदगी अनिवार्य रहेगी। ताकि फरियादियों की समस्या का समाधान मौके पर ही हो सके। हरियाली बढ़ाने का विशेष कार्यक्रम शुरू कराया जाएगा। जिसमें सभी संपर्क मार्गों के दोनों ओर पौधारोपण होगा। जिला पंचायत अध्यक्ष सुभाष वर्मा ने बताया कि ग्रामीण शिक्षा पर भी विशेष फोकस रहेगा। सभी विद्यालयों का निरीक्षण किया जाएगा। जिनस्कूलों में बच्चों की संख्या अधिक और शिक्षक कम है। वहां पर पर्याप्त संख्या में शिक्षक तैनात कराए जाएंगे । जिन स्कूलों में बच्चे कम है और शिक्षा का अधिक है। वहां से शिक्षक कम कराकर दूसरे विद्यालय भिजवाए जाएंगे। जरूरत वाले गांव में ही स्कूलों का उच्चीकरण कराया जाएगा कोशिश होगी कि हर गांव में स्कूल बच्चों के करीब हो। जिला पंचायत अध्यक्ष सुभाष वर्मा ने बताया कि जिले में काफी नदिया है जिसके कारण किसानों की भूमि का कटाव होता है। उसके बचाव के पुख्ता इंतजाम कराए जाएंगे। इस संबंध में जल्द ही सिंचाई विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक का कार्य योजना तैयार कराई जाएगी। कार्य योजना को बाद में मुख्यमंत्री सिंचाई मंत्री से स्वीकृति दिलाई जाएगी। उन्होंने बताया कि असिंचित वाले क्षेत्रों में लघु सिंचाई परियोजना के तहत सिंचाई के संसाधन बढ़ाने के प्रयास तेज किए जाएंगे। जिन गांव में सरकारी नलकूपों की आवश्यकता है। वहां पर सरकारी नलकूपों लगाए जाने के प्रस्ताव शासन को दिए जाएंगे। जंगली जानवरों से किसानों की फसलें सुरक्षित रह सके इसके लिए भी शासन स्तर पर प्रयास कराए जाएंगे। बिहारीगढ़ रोशनाबाद मार्ग को डेवलप किया जाएगा। बहादराबाद से झबरेड़ा तक स्वीकृत गंगनहर ब्रांच के निर्माण भी जल्द से जल्द शुरू कराने के प्रयास होंगे। घाड़ क्षेत्र की सिंचाई के लिए गंग नहर पर इरीगेशन लिफ्टिंग सिस्टम को शासन से स्वीकृति दिलाने के हर संभव प्रयास होंगे। इस संबंध में उनकी मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत से एक दौर की बात हो भी चुकी है। जिला पंचायत अध्यक्ष सुभाष वर्मा ने बताया कि 1 महीने के भीतर सभी कार योजनाएं तैयार करा ली जाएंगी इसके बाद धरातल पर काम नजर आने लगेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.