एक भी बारिश नहीं झेल पाया सोलानीपुरम का नाला, दीवार गिरी, शिकायत पर नगर आयुक्त ने जेई का वेतन रोकने के आदेश दिए

रुड़की । सोलानीपुरम में बना नाला एक भी बारिश नहीं झेल पाया है। रात को जब तेज बारिश हुई तो नाले की दीवार धड़ाम जा गिरी। इससे सुपर विजन करने वाली निर्माण एजेंसी पर भी सवाल खड़े हो रहे हैं और संबंधित ठेकेदार पर भी निम्न क्वालिटी का निर्माण करने का आरोप साबित हो रहा है। अब पार्षद के पति ने शिकायत की है तो मुख्य नगर आयुक्त नूपुर वर्मा ने जांच के लिए कमेटी गठित कर दी है। अब जांच कब तक होगी और क्या रिपोर्ट आएगी। इसके बाद ठेकेदार से दोबारा दीवार बनवाई जाएगी या फिर उसके भुगतान पर रोक लगाई जाएगी। या जारी भुगतान की रिकवरी की जाएगी। इस बारे में अभी नगर निगम प्रशासन का रुख सामने नहीं आया है। दर्शन रुड़की नगर निगम क्षेत्र में ही नहीं बल्कि आसपास के क्षेत्र में भी जहां-जहां भी सड़क और नाले का निर्माण हो रहा है । वहीं पर क्वालिटी का जरा भी ध्यान नहीं रखा जा रहा है । इसी वजह से सड़क बनने के साथ टूट रही है और नाले बारिश का पानी नहीं खेल पा रहे हैं। साफ-साफ कहा जाए तो सरकारी बजट ठिकाने लगाया जा रहा है। 3 दिन पहले मेयर गौरव गोयल ने निरीक्षण के दौरान आवास विकास में निम्न क्वालिटी का कार्य होने पर नाले का निर्माण का कार्य रुकवाया था। लेकिन अभी तक इस संबंध में भी नगर निगम प्रशासन की ओर से कोई सख्त कदम नहीं उठाया गया है। अब सोलानीपुरम के नाले का नया मामला सामने आ गया है। पार्षद देवकी शर्मा के पति रमेश जोशी ने मुख्य नगर आयुक्त को बताया कि अभी डेढ़ महीने पहले नाला बना था। इसके बाद रात ही तेज बारिश हुई है। वह इसी बीच नाले की दीवार गिर गई है। मुख्य नगर आयुक्त ने उन्हें भरोसा दिया है कि इस संबंध में जरूर कार्रवाई होगी। नागरिकों की मानें तो कहीं पर भी कोई कार्य अच्छे ढंग से नहीं कराया जा रहा है। शिकायत करने के बाद भी नगर निगम के अधिकारी कर्मचारी मौका मुआयना नहीं करते जिस कारण ठेकेदार मनमानी कर रहे हैं। नतीजतन नए निर्माण भी ध्वस्त हो रहे हैं। वजह उनमें पर्याप्त सामग्री का उपयोग नहीं हो रहा है। रुड़की के सोलानीपुरम में डेढ़ महीने पहले बनी दीवार देररात बारिश के बाद धराशायी हो गयी। पार्षद की शिकायत पर नगर आयुक्त नूपुर वर्मा ने जेई का वेतन रोकने का आदेश दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *