महाकुंभ से पूर्व हरिद्वार को सजा रही टीम बीइंग भगीरथ, सार्वजनिक दीवारों पर जीवंत कलाकृतियां उकेरी जाने लगी

हरिद्वार । हरिद्वार में कुंभ के लिए शहर सजने लगा है ।हर बार हरिद्वार की दीवारें भी बोलने के लिए तैयार हो रही है । बीइंग भगीरथ द्वारा हरिद्वार में सार्वजनिक दीवारों पर जीवंत कलाकृतियां उकेरी जाने लगी है । ये कार्य और कोई नहीं बल्कि यही ग़ैर सरकारी संस्था कर रही है । बीइंग भगीरथ के संस्थापक शिखर पालीवाल का कहना है इस कार्य के लिए सी॰एस॰आर॰ के तहत संस्थानों का संयोग माँगा जा रहा है । उनका कहना है कि मेला अधिकारी को भी बस स्टैंड व ऋषिकुल पर किए गए पेंटिंग कार्य से अवगत करा दिया गया है और मेला अधिकारी द्वारा इसकी सराहना भी की गई है अपर मेलाधिकारी डा एल॰एन॰ मिश्र का कहना है की जगह जगह स्थाई कार्य अब दिखने लगे हैं तथा सौंदर्यकरण कार्यों के लिए बीइंग भगीरथ संस्था आगे आयी है जो की सराहनीय है । सामाजिक सहभागिता के तहत कुछ लोगों ने भी इस कार्य के लिए सहयोग करने की इच्छा जतायी है । शिखर ने बताया कि हरिद्वार बस अड्डे की एक दीवार से शुरू हुई सुंदर कलाकृति अब पूरे बस स्टैंड पर अलग अलग जगह तैयार हो चुकी है । कुंभ तक अन्य कई जगहों पर इसी तरीक़े से दीवारों को सजाया जाएगा ।शिखर पालीवाल का कहना है कि अद्भुत कुंभ अलौकिक कुंभ का स्लोगन सब जगह पर दीवारों पर पेंटिंग के साथ उकेरा जा रहा है और बीइंग भगीरथ के स्वयंसेवी पूरी मेहनत से जगह जगह पर ग़ैर सरकारी सहयोग से सी॰एस॰आर॰ की मदद से हरिद्वार को सुंदर बनाने में जुटे हैं। शिखर का कहना है कि हरिद्वार समेत ऋषिकेश रुड़की आदि स्थानों पर बीइंग भगीरथ के स्वयमसेवी पहले भी वाल पेंटिंग के माध्यम से स्वच्छता का संदेश देते रहे हैं और अब पेंटिंग की थीम को कुंभ तथा साधु संतों की कलाकृतियां तथा गंगा अवतरण आदि चित्रों से सजाया जा रहा है । उनका कहना है कि ऐसी ऐसी जगहों को टीम बीइंग भगीरथ चिन्हित कर रही है जहाँ पर फैली गंदगी व कचरे को साफ़ करके पेंटिंग के साथ उस जगह को जीवंत बनाया जा रहा है ।हरिद्वार बस अड्डे पर सभी तरह के यात्री आते हैं और यह पेंटिंग के कार्य देकर सभी का ये कहना है कि इस तरह की मनमोहक चित्र उन्होंने आज से पहले नहीं देखे हैं। उनका कहना है कि ऐसे चित्रों के पास खड़े होकर अलग ही ऊर्जा का संचार भी होता है तथा मन को शांति मिलती है बीइंग भगीरथ बस स्टैंड पेंटिंग में पी॰एन॰बी॰ के सी॰एस॰आर॰ के तहत सहयोग किया गया है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *