कोर्ट के फैसले से अपने को बचाने और अपनी सत्ता कायम रखने के लिए ही इंदिरा गांधी ने देश में आपातकाल लगाया था: जयपाल चौहान, आपातकाल के विरोध में भाजपा का कांग्रेस के खिलाफ प्रदर्शन

हरिद्वार । भारतीय जनता पार्टी ने शुक्रवार को 25 जून 1975 को देश में तत्कालीन कांग्रेस सरकार द्वारा देश में थोपी गई इमरजैंसी आपातकाल को लेकर काला दिवस मनाया। कार्यकर्ता चंद्राचार्य चौक पर जिलाध्यक्ष डॉ. जयपाल सिंह चौहान के नेतृत्व में एकत्र हुए और हाथों में कांग्रेस विरोधी नारे और माथे पर काली पट्टी बांधकर विरोध प्रदर्शन किया। भाजपा जिलाध्यक्ष डॉ. जयपाल सिंह चौहान ने कहा कि देश में आपातकाल की घोषणा के बाद जिस तरह से तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने देशवासियों के सभी मौलिक अधिकारों को निरस्त कर दिया। प्रेस पर सेंसरशिप लगा दी थी। विपक्षी नेताओं को रातों-रात जेल में डाल दिया गया और उनके साथ अमानवीय व्यवहार करते हुए शारीरिक यातनाएं दी गई जो आज भी हिन्दुस्तानवासियों के जहन में है। यह अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण है कि कांग्रेस इस कृत्य की निंदा करने के बजाय आज भी इस पर खेद व्यक्त नहीं जताती है। केंद्र की तत्कालीन इंदिरा सरकार ने जिस तरीके से उस समय देश की अर्थव्यवस्था को नष्ट भ्रष्ट करने का काम किया। ऐसे समय में देश के प्रमुख विपक्षी दलों ने भारतीय जनसंघ ने एक लंबी लड़ाई लड़ी। भाजपा जिला महामंत्री विकास तिवारी और आदेश सैनी ने कहा कि कोर्ट के फैसले से अपने को बचाने और अपनी सत्ता कायम रखने के लिए ही इंदिरा गांधी ने देश में आपातकाल लगाया था और देश में लोकतंत्र के सभी स्तंभों को भी धराशाई कर दिया गया था। इस कृत्य के लिए कांग्रेस को पूरे देश से माफी मांगनी चाहिए। प्रदर्शन करने वालों में देशपाल रोड, डॉ. अंकित आर्य, अनिल अरोड़ा, संदीप गोयल, प्रदीप पाल, तेलू राम, डॉ प्रदीप चौधरी, लव शर्मा, मोहित वर्मा, सुशील रावत, सिद्धार्थ कौशिक, धीरेंद्र गुप्ता, प्रदीप मेहता, निशा पुंडीर, संजय पुंडीर, मृदुला सिंघल, गुलफाम पीर, खलीक सलमानी आदि शामिल रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.