300 करोड का ऋण वितरित कर चुका है जिला सहकारी बैंक, डीसीबी कार्यकारिणी की बैठक में लिए गए कई महत्वपूर्ण निर्णय

रुड़की । जिला सहकारी बैंक कार्यकारिणी की बैठक में बिंदुओं पर विशेष रूप से चर्चा की गई। डीसीबी के अध्यक्ष प्रदीप चौधरी की अध्यक्षता में हुई बैठक में मुख्य रूप से बैंक के एनपीए ऋणों की समीक्षा की गई । जिसमें बढ़ते एनपीए पर चिंता जाहिर की गई। इसके अलावा बैंक की शाखा लंढोरा के लिए नवीन स्थल के चयन पर विचार किया गया। बैंक में आउटसोर्सिंग के माध्यम से रखे गए कर्मियों का अनुमोदन किया गया । बैंक के वर्ग 1 के अधिकारियों के उप महाप्रबंधक पद पर पदोन्नति हेतु बैंक द्वारा की गई कार्रवाई का अनुमोदन भी किया गया। बैठक में बैंक की नवीन शाखा पनियाला रोड रुड़की ,हरिद्वार रोड शेरपुर हेतु चयन के लिए भवन किराया राशि तय की गई । कार्यालय निबंधक सहकारी समितियां उत्तराखंड के द्वारा उर्वरक ऋण सीमा की ब्याज दर में परिवर्तन किए जाने के निर्णय पर विचार हुआ है । शाखा ज्वालापुर के मृतक खाताधारक के बचत खाता में जमा धनराशि को मृतक आश्रित को भुगतान करने का निर्णय लिया गया । चीनी मिल डोईवाला को स्वीकृत की गई कैश क्रेडिट बंधक ऋण सीमा के अनुमोदन पर विचार हुआ। कार्यालय निबंधक सहकारी समितियां उत्तराखंड बहुउद्देशीय साधन सहकारी समिति सलेमपुर के ओर से कर्मचारियों के वेतन के संबंध में दिए गए पत्र पर विचार हुआ। लेकिन समिति में पूर्व में हुए बड़े घोटाले के कारण कर्मचारियों को आन्नेकी मिनी बैंक से वेतन दिए जाने संबंधी आवेदन को लंबित रख दिया गया। इकबालपुर सहकारी गन्ना विकास समिति कार्यालय में चल रहे सहकारी बैंक की शाखा का किराया बढ़ाने के संबंध में बैंक कार्यकारिणी ने साफ कहा है कि समिति यदि फ्रंट पर नया भवन बना कर दे तो किराया वृद्धि पर विचार हो सकता है। बैठक में जिला सहकारी बैंक के अध्यक्ष प्रदीप चौधरी के अलावा उपाध्यक्ष ठाकुर राजेंद्र सिंह ,डायरेक्टर सुशील राठी,पूर्व चेयरमैन एवं डायरेक्टर सुरेंद्र चौधरी मौजूद रहे। बैठक की कार्यवाही को सचिव/महाप्रबंधक श्री के कमल के द्वारा लिखा गया। अन्य कई मसलों पर भी चर्चा की गई और सचिव महाप्रबंधक सी के कमल के द्वारा कार्यकारिणी के समक्ष बैंक की प्रगति की रिपोर्ट भी प्रस्तुत की गई। स्वयं सहायता समूह को वितरित किए जा रहे हैं ऋण के बारे में भी चर्चा की गई और तय किया गया है कि ढंडेरा में आठ मार्च को सौ महिला स्वयं सहायता समूह को करीब 3 करोड रुपए ऋण वितरित किया जाएगा। बैठक के बाद जिला सहकारी बैंक अध्यक्ष प्रदीप चौधरी और डायरेक्टर सुशील राठी ने बताया कि जिला सहकारी बैंक चालू वित्त वर्ष में अब तक 300 करोड रुपए का ऋण वितरित कर चुका है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *