जिला शिक्षाधिकारी ने सहायक अध्यापक को किया निलंबित, सहायक अध्यापक पर नियुक्ति के दौरान फर्जी दस्तावेज जमा कर नौकरी पाने का आरोप

हरिद्वार । जिला शिक्षाधिकारी डॉ.विद्या शंकर चतुर्वेदी ने भगवानपुर राजकीय प्राथमिक विद्यालय के एक सहायक अध्यापक रामबाबू को निलंबित कर दिया है। जांच पूरी होने तक शिक्षक को खंड शिक्षाधिकारी कार्यालय में अटैच किया गया है। सहायक अध्यापक पर नियुक्ति के दौरान फर्जी दस्तावेज जमा कर नौकरी पाने का आरोप है। शिक्षा विभाग ने अध्यापक को आरोप पत्र जारी किया है। सहायक अध्यापक को प्रमाण पत्र सहित जांच में अपना पक्ष रखने के लिए तीन सप्ताह का समय दिया गया है। जिला शिक्षाधिकारी के मुताबिक एसआईटी जांच जारी है। शिक्षकों के उत्तराखंड और बाहरी राज्यों से दस्तावेज सत्यापन कराए जा रहे हैं। भगवानपुर राजकीय प्राथमिक विद्यालय सुनहटी के एक सहायक अध्यापक पर विभाग में नियुक्ति पाने के दौरान बीए की मार्कशीट फर्जी जमा कराकर नौकरी हासिल करने का आरोप है। सत्यापन के समय मार्कशीट में भिन्नता पाई गई।जिला शिक्षा अधिकारी ने बताया कि चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय मेरठ के अभिलेख में परीक्षाफल उत्तीर्ण, प्राप्तांक भिन्न है। कूट रचित के आधार पर नौकरी पाने के उपरान्त उक्त तथ्य को पूरे सेवा काल में विभाग से छिपाये रखा गया। आरोपों के आधार पर सहायक अध्यापक को तत्काल निलंबित किया गया है। निलंबन अवधि में उपस्थिति उपशिक्षा अधिकारी कार्यालय भगवानपुर में देंगे। जिला शिक्षा अधिकारी ने बताया कि यदि निर्धारित समय में आरोप पत्र का कोई जवाब नहीं दिया जाता है। अथवा अपना पक्ष नहीं रखा जाता है। तो अभिलेखों के आधर पर प्रकरण का निस्तारण कर दिया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.