झबरेड़ा सहकारी समिति के कर्मचारियों ने खुद की थी 22 लाख की लूट, पुलिस ने जांच कर किया खुलासा, दो कर्मचारी समेत तीन आरोपी गिरफ्तार

रुड़की । झबरेड़ा में को हुई लूट की घटना का पुलिस ने 12 घंटे से भी पहले खुलासा कर दिया। लूट की घटना का ताना बाना खुद समिति के कर्मचारियों ने ही बुना था। पुलिस ने दो कर्मचारियों के समेत तीन लोगों को गिरफ्तार किया है लूट की रकम भी पुलिस ने बरामद कर ली। रुड़की सिविल लाइंस कोतवाली में घटना का खुलासा करते हुए हरिद्वार एसएसपी डी सेंथिल अबुदई कृष्णराज एस ने बताया कि झबरेड़ा पुलिस को सूचना मिली थी कि सहकारी समिति के दो कर्मचारियों से बाइक सवार बदमाशों ने रुपयों से भरा बैग तमंचे के बल पर लूट लिया है जिसमें 22 लाख 62000 बताए गए थे। उन्होंने बताया कि समिति सचिव तलवार सिंह की तहरीर के बाद घटना के खुलासे के लिए एसपी देहात के नेतृत्व में टीम का गठन किया गया। टीम ने जांच की तो पता लगा कि समिति में कार्यरत कर्मचारी आशु कुमार एवं सन्नी कुमार द्वारा लूट की घटना की योजना बनाई थी। इस काम के लिए उन्होंने धर्मेंद्र पुत्र हरमल निवासी डेलना वह अपने गांव के पंकज पुत्र ओम सिंह को योजना में शामिल किया आशु ने पूर्व योजना के तहत धर्मेंद्र व पंकज को झबरेड़ा में अग्रवाल फर्नीचर के समीप पहुंचने को कहा। आशु ने 20,29,900 और का वाउचर और रकम साथ में लिया और 2 लाख 32 हजार 390 रुपए का केवल बाउचर लेकर और रकम को कार्यालय की अलमारी में रखककर बैंक की ओर रवाना हो गए। जिसमें से बाद में हिस्सा करने की बात तय हुई थी। पूछताछ में बताया कि जब आशु अपने साथी कर्मचारी रमेश के साथ करीब 2:00 बजे पैसे को जमा कराने बैंक जा रहे थे तब उन्हें धर्मेंद्र और पंकज नहीं दिखाई दिए तब आशु ने रमेश से बहाना बनाया की वह पैसे कार्यालय में भूल गया था और वह दोनो वापस समिति आ गए उसके बाद फिर से आशु और रमेश बैंक में पैसा जमा कराने गए जहाँ पंकज व धर्मेंद्र ने उनसे रुपयों का बैग छीन कर शिव चौक की ओर फरार हो गए। आशु ने पंकज व धर्मेंद्र को दो दो लाख रुपए दिए। बाकी के 16 लाख 29 हजार 900 घर में रखी कटी घास के नीचे उसे थैले में छुपा दिया जिसमें से सनी चौधरी को भी हिस्सा देना था। आशु की निशानदेही पर पुलिस ने उसके घर से 1629900 रुपए बरामद कर लिए। इसके साथ ही पंकज को गिरफ्तार कर दो लाख उसके घर से बरामद किए वही सनी चौधरी के घर से पुलिस ने 4,46, 920 बरामद किए सनी ने बताया कि यह वही लूट की धनराशि पैसे थे जिसका की बाउचर भरा था । दोनो की योजना थी कि रकम को 25 से 26 लाख बताना था। पुलिस ने आशू कुमार, सनी चौधरी और पंकज को गिरफ्तार कर 22 लाख क्षेत्र हजार 820 की रकम बरामद की है। घटना का खुलासा करने वाली टीम में पुलिस अधीक्षक देहात स्वप्न किशोर सिंह, क्षेत्राधिकारी मंगलौर डीएस रावत, थाना अध्यक्ष झबरेड़ा रविंद्र कुमार, उप निरीक्षक अर्जुन कुमार, नरेंद्र सिंह रावत, महेंद्र सिंह पुंडीर, चिंतामणि सकलानी, हेड कांस्टेबल राजेंद्र सिंह, कांस्टेबल जितेंद्र सिंह,मोहित खंतवाल,नूर हसन, भूपेंद्र, नरेश चंद्र,राजेंद्र सिंह अंजली शामिल रहे। सीआईयू टीम में एसओजी प्रभारी एनके बचकोटी, हेडकांस्टेबल देवेंद्र भारती, कॉन्स्टेबल जाकिर हुसैन, नितिन,सुरेश रमोला, कपिल, अशोक,महिपाल रविंद्र खत्री शामिल रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *