रुड़की में औषधि नियंत्रण विभाग ने सील फैक्ट्री में छापा मारकर पकड़ी पचास लाख की नकली एंटीबायोटिक दवा, दो दिन पूर्व ग्यारह लाख की दवा की खेप प्रयागराज भेजी जा रही थी

रुड़की । औषधि नियंत्रण विभाग ने माधोपुर में सील फैक्ट्री में छापा मारकर करीब पचास लाख की नकली एंटीबायोटिक दवा पकड़ी है। नकली दवा बनाने के मामले में यह फैक्ट्री पिछले साल सील हुई थी। इसी कंपनी से दो दिन पहले कूरियर से ग्यारह लाख की दवा की खेप प्रयागराज भेजी जा रही थी। दो दिन पहले मालवीय चौक स्थित कूरियर कंपनी के दफ्तर से औषधि नियंत्रण विभाग ने करीब ग्यारह लाख की नकली एंटीबायोटिक दवा पकड़ी थी। दवा के डिब्बों पर काशीपुर में निर्माण होना लिखा गया था और इसे प्रयागराज भेजा जाना था। काशीपुर में बनी दवाओं को रुड़की से प्रयागराज भेजे जाने से विभाग का शक गहरा गया था। शुरूआती जांच में एक व्यक्ति का नाम सामने आया था। वह पहले भी नकली दवा बनाने के मामले में पकड़ा जा चुका था। मामले की जांच आगे बढ़ाते हुए औषधि नियंत्रण विभाग की टीम ने पड़ताल शुरू की। पता चला कि नकली एंटीबायोटिक दवा रुड़की में ही तैयार कर कूरियर के जरिए भेजी जा रही थी। ड्रग इंस्पेक्टर मानवेंद्र राणा के नेतृत्व में विभागीय टीम ने माधोपुर में एक फैक्ट्री पर छापा मारा। इस फैक्ट्री को पिछले साल नकली दवा बनाने के मामले में सील किया गया था और आरोपी को गिरफ्तार किया गया था। सील फैक्ट्री में फिर से दवा बनायी जाने लगी। ड्रग इंस्पेक्टर ने बताया कि मामले में आरोपी जमानत पर हैं। जब फैक्ट्री में छापा मारा गया तो वहां केवल गार्ड मिला। मुख्य आरोपी फरार है। बताया कि करीब पचास लाख की नकली एंटीबायोटिक दवा पकड़ी गई है। मामले में अभी कार्रवाई चल रही है। मुख्य आरोपी सहित अन्य की भूमिका के बारे में पता लगाकर कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.