राष्ट्रीय एकता और अखण्डता का प्रतीक है होली का त्योहार, पूर्व राज्यमंत्री मनोहर लाल शर्मा ने क्षेत्र व प्रदेशवासियों को दी होली की शुभकामनाएं, कहा असत्य पर सत्य और बुराई पर अच्छाई का प्रतीक है यह पर्व

रुड़की । उत्तराखंड कांग्रेस कमेटी के प्रदेश उपाध्यक्ष एवं पूर्व राज्यमंत्री मनोहर लाल शर्मा ने क्षेत्र व प्रदेशवासियों को होली पर्व की शुभकामनाएं और बधाई दी है। इस अवसर पर मनोहर लाल शर्मा ने कहा कि हमारी संस्कृति की यह अनूठी विशेषता है कि हमारे त्योहार समाज में मानवीय गुणों को स्थापित कर लोगों में समता, समानता, सद्भाव, प्रेम और भाईचारे का सन्देश प्रवाहित करते हैं। होली देश का सबसे पुराना त्योहार है जिसे छोटे−बड़े अमीर−गरीब सभी लोग मिलजुल कर मनाते हैं। यह असत्य पर सत्य और बुराई पर अच्छाई का प्रतीक है। राग−रंग का यह पर्व वसंत का संदेशवाहक भी है। होली हमारे लिये सांस्कृतिक और पारंपरिक उत्सव है। होली का त्योहार जैसे−जैसे नजदीक आता है वैसे−वैसे लोगों में खिलन्दड़ भाव के साथ एक अनोखा और अद्भुत उन्माद छा जाता है। विशेषकर उत्तर भारत के मैदानी राज्यों में होली बहुत धूमधाम के साथ मनाई जाती है। होली रंग बिरंगा पर्व है। रंग और पिचकारी लेकर युवा निकल पड़ते हैं और एक−दूसरे पर अबीर, गुलाल और रंग डालकर होली मनाते हैं। हर तरफ लोग मस्ती में झूमते व एक दूसरे पर अबीर−गुलाल लगाते व रंगों की वर्षा करते दिखाई देते हैं। यह त्योहार सामाजिक समानता, राष्ट्रीय एकता और अखण्डता तथा विभिन्नता में एकता का साक्षात प्रतीक है। होली मनाते समय जात−पात, छोटा−बड़ा का भी कोई भेद नहीं होता। अमीर−गरीब, बच्चे, युवा बुजुर्ग सभी मिल−जुल कर यह त्यौहार मनाते हैं। होली रंगों के साथ गीत−संगीत और नृत्य का अनूठा त्यौहार है। इसे एकता, प्यार, खुशी, सुख और जीत का त्योहार के रुप मे भी जाना जाता है। यह हर्षोल्लास परस्पर मिलन व एकता का प्रतीक है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *