आईएएस अधिकारी बनकर देश की सेवा करना चाहती हैं गार्गी, केंद्रीय विद्यालय नंबर-1 की छात्रा गार्गी अंथवाल ने 99.2 प्रतिशत अंक प्राप्त कर किया शिक्षानगरी का नाम रोशन

रुड़की । सीबीएसई बोर्ड में कक्षा 12 में 99.2 प्रतिशत अंक हासिल कर रुड़की का नाम रोशन करने वाली केंद्रीय विद्यालय नंबर-1 की छात्रा गार्गी अंथवाल का सपना आईएएस अधिकारी बनना है। वह आइएएस बनकर देश व समाज की सेवा करना चाहती हैं। दिल्ली-हरिद्वार हाईवे स्थित ईशान एनक्लेव निवासी गार्गी की मां कंचन अंथवाल केंद्रीय विद्यालय में शिक्षिका हैं। जबकि, पिता सुधीर अंथवाल रामनगर स्थित पोस्ट ऑफिस में पोस्टमास्टर हैं। गार्गी ने बताया कि वो बचपन से ही प्रशासनिक सेवा में जाना चाहती हैं। गार्गी ने बताया कि वह प्रतिदिन स्कूल के बाद पांच-छह घंटे पढ़ती थी। वह टाइम टेबिल बनाकर प्रतिदिन सभी विषयों को पढ़ती थी। बताया कि वह मोबाइल का इस्तेमाल केवल पढ़ाई के लिए करती थी। सोशल मीडिया से दूरी बनाकर रखती थी। गार्गी का कहना है कि छात्रों को सोशल मीडिया से दूरी बनाकर रखनी चाहिए, क्योंकि इस पर दिया गया समय काम नहीं आता है। सोशल मीडिया का इस्तेमाल केवल सूचनाओं के आदान-प्रदान के लिए करना चाहिए। विद्यालय के प्राचार्य वीके त्यागी व उप प्राचार्य अंजू सिंह ने छात्रा गार्गी को बधाई दी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.