पुरानी रंजिश के चलते की गई प्रधान की हत्या, हत्यारोपियों की धरपकड़ के लिए पुलिस टीमों की दबिश

रुड़की । प्रधान कमर आलम की हत्या पुरानी रंजिश के चलते हुई है। इसीलिए पुलिस ने प्रधान कमर आलम के भाई मुजम्मिल की 9 वर्ष पूर्व हुई हत्या में शामिल रहे लोगों की धरपकड़ शुरू कर दी है। पर इनमें से काफी भाग निकले हैं ।लेकिन पुलिस कार्रवाई इतनी तेजी से चल रही है कि संभवत सारे हत्यारोपी जल्द गिरफ्तार हो जाएंगे। देर रात एसएसपी रुड़की पहुंचे और मामले की जानकारी ली। एसएसपी डी सैंथिल अबुदई कृष्णराज एस का कहना है कि शीघ्र ही ग्राम प्रधान के हत्यारोपितों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा। नौ साल पहले प्रधान के भाई प्रधान मुज्जमिल की भी गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। उन्होंने माना है कि हत्याकांड की प्रथम दृष्टया जांच में ही पुरानी रंजिश सामने आ रही है। इसीलिए फारुक कॉलोनी कमेलपुुर,थिथौला, देहरादून आदि जगह पर दबिश दी गई है। हत्याकांड में प्रयुक्त की गई बाइक की भी पहचान की जा रही है। जिन शूटरों ने हत्या की है उनकी भी पहचान कराई जा रही है। एसएसपी ने माना है कि हत्या पुरानी रंजिश को लेकर हुई है लेकिन हत्या शूटरों से कराई गई है। इस संबंध में पुलिस की टीमें लगातार प्रयास कर रही हैं । वही हत्यारोपियों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस पर दबाव बढ़ता जा रहा है। क्योंकि सिविल अस्पताल रुड़की में रात भारी भीड़ जमा रही। यहां पर प्रधान कमर आलम के तमाम परिचित रिश्तेदार और जानकार पहुंचे। देवबंद और सहारनपुर क्षेत्र तक के गांव के लोग का सुबह तक आने का सिलसिला जारी है। प्रधान कमर आलम की सहारनपुर और मुजफ्फरनगर जनपद में भी बहुत सारी रिश्तेदारिया हैं। इसीलिए मामले की गंभीरता को देखते हुए रुड़की शहर पुलिस हत्याकांड को लेकर संदेह के घेरे में आए सभी लोगों की समय रहते धरपकड़ कर लेना चाहती है। पुलिस की एक दर्जन टीमें विभिन्न क्षेत्रों में भेजी गई है। पुलिस सूत्रों ने बताया कि अभी तक विभिन्न जगह से कई लोगों को हिरासत में लिया जा सका है। मुख्य आरोपियों पर दबाव बनाने के लिए उनके परिजनों को भी लाकर कोतवाली में बैठाया गया है। पुलिस सूत्रों ने यह भी बताया है कि हत्याकांड में मात्र दो लोग ही शामिल नहीं रहे हैं। इस पूरे मामले में कई लोगों का हाथ रहा है। जिन्हें चिन्हित कर उनकी धरपकड़ की कार्रवाई तेजी से की जा रही है। वहीं पुलिस ने कुछ परिवारों की भी सुरक्षा बढ़ाई है। नगला कुबड़ा कमेलपुर गांव फारुक कॉलोनी में में पुलिस गश्त बढ़ा दी गई है। पुलिस को आशंका है कि जिस तरह से बीती रात प्रधान समर्थकों ने हत्याकांड से नाराज होकर नगला कुबड़ा में जमशेद, ब्लाक प्रमुख पति नदीम के घर में तोड़फोड़ की । वाहनों में आग लगा दी कहीं ऐसे ही और घटना घटित ना हो जाए । कहीं मृतक प्रधान कमर आलम समर्थक इकट्ठा होकर हत्यारोपियों के घरों पर हमला न कर दें। हत्याकांड में तहरीर दे दी गई है । जिसमें उन लोगों को नामजद किया गया है । जिन्होंने प्रधान कमर आलम के बड़े भाई प्रधान मुजम्मिल हसन की 9 साल पहले हत्या की थी। साथी जमशेद नदीम आदि को भी तहरीर में नामजद किया गया है। लेकिन पुलिस की पहली कोशिश उन शूटरों की गिरफ्तारी की है जिन्होंने भाड़े पर हत्या की है। पुलिस का मानना है कि जैसे ही शूटर पुलिस गिरफ्त में आएंगे तो पूरे हत्याकांड का सिलसिलेवार खुलासा हो जाएगा। पुलिस को आशंका है कि सूट और पश्चिम उत्तर प्रदेश निवासी हो सकते हैं। जिसमें शूटर देवबंद क्षेत्र के भी होने की आशंका है। पुलिस की कुश्ती में प्रधान कमर आलम के विरोधी पक्ष के रिश्तेदारों की गतिविधियों पर भी निगाह रखे हुए हैं। वही पोस्टमार्टम कराने के बाद प्रधान क्या शव उनके परिजनों को सौंप दिया गया। जो की कड़ी सुरक्षा के बीच दफनाया गया है। नगला कुकरा गांव में पुलिस बल तैनात है और अधिकारियों ने मृतक प्रधान के परिजनों को भरोसा दिया है कि हत्यारोपियों को जल्द गिरफ्तार कर लिया जाएगा। लेकिन परिजनों में गुस्सा और गम है और प्रधान समर्थकों में भारी रोष व्याप्त है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *