एहतियात के साथ हुई अलविदा जुमा की नमाज, मांगी मुल्क को कोरोना से निजात दिलाने की दुआ, मस्जिदों और घरों में हुआ कोरोना की गाइडलाइन का पालन

रुड़की।नगर व आसपास के क्षेत्रों में मस्जिदों में अलविदा जुमे की नमाज सोशल डिस्टेंसिंग के साथ अदा की गई।सरकार की गाइड लाइन के अनुसार कोरोना काल में मस्जिदों में रोजेदारों ने अलविदा जुमे की नमाज अदा की।नगर की जामा मस्जिद में अलविदा जुमे की नमाज मुफ्ती मोहम्मद सलीम ने अदा कराई।इस दौरान कोरोना महामारी से निजात तथा मुल्क में अमन और तरक्की की विशेष दुआ भी की गई।मुफ्ती मोहम्मद सलीम ने नमाज से पहले अपने खुतबे में कहा कि आज हमारा मुल्क ही नहीं,बल्कि पूरी दुनिया इस कोरोना महामारी की चपेट में है और इंसान को ऐसे हालात से डरने की नहीं,बल्कि उसका मुकाबला करने की जरूरत है। सरकार के गाइडलाइन पर अमल करते हुए मास्क का प्रयोग,सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए अपने घरों में ही रहें तथा रमजान के महीने में इबादत करें।उन्होंने कहा कि रमजान का पाक महीना मुकद्दस महीना है और इसमें अल्लाह ताला से अपने गुनाहों से तोबा के साथ ही इस महामारी से निजात की भी दुआएं मांगे।उन्होंने कहा कि रमजान में हर दुआ कबूल होती है,इसलिए ज्यादा से ज्यादा वक्त इबादत में गुजारें और उसके बंदों की खिदमत करें।उन्होंने कहा कि जकात देने में कोताही नहीं करनी चाहिए।जकात देने से माल व दौलत में बढ़ोतरी होती है।उन्होंने कहा कि इस बार जकात की रकम ₹35 रखी गई है जो हमें ईद की नमाज अदा करने से पहले जरूरतमंद लोगों तक पहुंचानी होगी।इस मौके पर मौलाना अरशद कासमी,कारी कलीमुद्दीन,अफजल मंगलौरी, जावेद अख्तर एडवोकेट,डॉक्टर नैय्यर काजमी,हाजी नौशाद अहमद,शेख अहमद जमां, अताउल रहमान अंसारी,हाजी लुकमान कुरैशी,कुंवर जावेद इकबाल,डा.मोहम्मद मतीन,प्यारे मियां,रियाज कुरैशी,सैयद नफीस उल हसन, सलमान फरीदी,सलीम साबरी,इमरान देशभक्त आदि मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.