भेल कर्मियों में अभी भी बना है गुलदार का डर, एक गुलदार के मारे जाने के बाद भी लोगों के दिल से नहीं निकल सका डर

बहादराबाद । भेल कर्मियों और शिवालिक नगर क्षेत्र के लोगों में अभी भी गुलदार का डर बना हुआ है। उन्हें आशंका है कि और गुलदार अभी क्षेत्र में है। जो कभी भी आते जाते लोगों पर हमला कर सकते हैं। जब क्यों वन विभाग के अधिकारियों का कहना है कि आदमखोर गुलदार को मार गिराया गया है। अब कोई आदमखोर गुलदार शिवालिक नगर या भेल क्षेत्र में नहीं है। इसीलिए डरने की जरूरत नहीं है। जबकि भेल कर्मियां का मानना है कि पिछले कुछ दिनों के भीतर क्षेत्र में एक नहीं कई गुलदार देखे गए। जिनमें से अभी एक ही मारा गया है। अन्य अभी भी इधर उधर हो सकते हैं। उनका कहना है कि वन विभाग ने जिस तरह से सर्च अभियान चलाया ऐसे में अन्य गुलदार अभी जंगल की ओर जा सकते हैं लेकिन वह कभी भी वापस आकर यहां फिर से हमला कर सकते हैं। जानकारी के लिए बता दें कि भेल और आस-पास के क्षेत्र में एक महिला सहित चार लोगों की जान ले चुका आदमखोर गुलदार की मौत के बाद भी लोगों में गुलदार का भय बना हुआ है। शनिवार की रात को गुलदार की मौत के बाद सोमवार को भी लोग गुलदार के आंतक को लेकर भयभीत नजर आ रहे थे। भेल और आस-पास के क्षेत्रों के लोगों का कहना है कि आदमखोर गुलदार की मौत से राहत जरुर मिली है। लेकिन भेल, सिडकुुल और रोशनाबाद का लंबा क्षेत्र राजाजी टाइगर रिजर्व पार्क की सीमा से लगा हुआ है और पार्क में गुलदारों की काफी संख्या हैं। ऐसे में पार्क से सिडकुल, भेल और रोशनाबाद की आबादी क्षेत्र में गुलदारों का आना आमबात है। जिसे लेकर लोगों में गुलदार का बरकरार है। वन विभाग को पार्क की सीमा पर ऊंची दीवार आदि माध्यम से जंगली जनवरों को आबादी क्षेत्र में आने-जाने से रोकना चाहिए। गुलदार का डर अभी भी इतना बना हुआ है कि कर्मचारी बड़ी ही सावधानी के साथ आज ड्यूटी पर गए और आए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.