मालिक बनकर मकान बेचने वाला किराएदार जेल गया, इस मामले में नगर निगम का लिपिक जा चुका है जेल

रुड़की । कानूनगोयान मोहल्ले में किरायेदार को मकान मालिक बनाने वाले मामले में मंगलवार को पुलिस ने आरोपी किरायेदार को भी गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी को कोर्ट में पेश किया गया। जहां से उसे न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया है। इससे पहले मामले में निगम लिपिक की गिरफ्तारी हो चुकी है।रुड़की में पंकज सिंघल की कानूनगोयान की पुश्तैनी संपत्ति को कूटरचना के सहारे उनके किरायेदार के नाम नगर निगम अभिलेखों में चढ़ा दिया गया था। नगर निगम लिपिक के साथ सांठगांठ कर किरायेदार ने नगर निगम रजिस्टर में अपना नाम दर्ज करावाया। पंकज सिंघल की शिकायत के बाद मामला उजागर होने पर नगर निगम ने आरोपी लिपिक शिव कुमार को निलबिंत कर दिया था। मामले में एसआईटी जांच भी हुई थी। भवन स्वामी की शिकायत पर सिविल लाइंस कोतवाली में धोखाधड़ी और अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज हुआ था। जिस पर कार्रवाई करते हुए एक फरवरी को पुलिस ने लिपिक शिव कुमार को गिरफ्तार कर लिया था। इस मामले में मंगलवार को एक और गिरफ्तारी पुलिस ने की है। मामले के जांच अधिकारी उप निरीक्षक बारू सिंह चौहान ने बताया कि किरायेदार सुरेश कुमार गुप्ता को गिरफ्तार कर लिया है। उन्होंने बताया कि सुरेश कुमार गुप्ता को कोर्ट में पेश किया गया। कोर्ट के आदेश पर उसे जेल भेज दिया गया है। जानकारी के लिए बता दें कि इससे पहले पुलिस इस मामले में नगर निगम के लिपिक शिव कुमार कश्यप को गिरफ्तार कर जेल भेज चुकी है। आरोपी लिपिक द्वारा किराएदार को मकान मालिक बना दिया गया था और नगर निगम में भवन का नामांतरण फर्जी कागजों के आधार पर कर दिया था ।अभी मृत्यु प्रमाण पत्र की भी जांच चल रही है ।जिसमें जल्द ही आरोप पत्र दाखिल होगा इसके बाद और कई गिरफ्तारियां होंगी। पुलिस कार्रवाई से नगर निगम कर्मचारियों में हड़कंप की स्थिति है । वही जाली दस्तावेजों के आधार पर मकान कब जाने वाले लोगों की भी धड़कनें बढ़ी हुई है। क्योंकि शहर में और भी बहुत सारे ऐसे मामले हैं जिसमें फर्जी कागजों के आधार पर किरायेदारों ने मकान का मालिकाना हक प्राप्त करने की कोशिश की है। जिन की विभिन्न स्तरों पर शिकायत हो रखी है और जांच भी चल रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *