उत्तराखंड में ट्यूशन फीस के अलावा सभी शुल्क पर रोक, मंहगी किताब खरीदने पर भी होगी कार्रवाई, शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे ने जारी किए आदेश

देहरादून । लॉकडाउन की वजह स्कूलबंदी की अवधि में प्राइवेट स्कूल केवल ट्यूशन फीस ही ले सकेंगे। अन्य मदों का शुल्क नहीं ले सकते। शुक्रवार को शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे ने मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह को इस बाबत कार्रवाई के निर्देश दिए। एनसीईआरटी के साथ प्राइवेट प्रकाशकों की मंहगी सहायक पुस्तकें लगाने पर सख्ती से रोक लगाने को कहा है। जो स्कूल मानकों का उल्लंघन करें, उनकी एनओसी को निरस्त करने के निर्देश भी दिए। शुक्रवार को यूएसनगर से वीडियो कांफ्रेसिंग के जरिए शिक्षा मंत्री ने मुख्य सचिव, शिक्षा आर मीनाक्षीसुंदरम और सभी जिलों के डीएम के साथ समीक्षा की। उन्होंने कहा कि इस वक्त स्कूल बंद है। न तो कंप्यूटर का उपयोग हो रहा है न ही कोई स्पोर्टस गतिविधि हो रही है। शिक्षा से इतर सभी गतिविधियां पूरी तरह से बंद हैं। ऐसे में इन मदों में शुल्क लेने का कोई औचित्य नहीं है। फिर भी प्राइवेट स्कूलों की ओर से पूरी फीस चुकाने का दबाव बनाया जा रहा है। शिक्षा मंत्री ने डीएम से भी नाराजगी जताई के ऐसा होने के बावजूद जिला प्रशासन खामोशी से क्यों देख रहा है?उन्होंने कहा कि तत्काल प्रभाव से टयूशन फीस से इतर बाकी सभी शुल्क की वसूली पर सख्ती से रोक लगाने के निर्देश दिए। महंगी किताबों खरीदवाएं जाने पर भी मंत्री ने नाराजगी जताई। कहा कि कोई भी स्कूल एनसीईआरटी से इतर किताबें नहीं खरीदवाएगा। हाईकोर्ट के मानक के अनुसार ही सहायक पुस्तक लगाई जा सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *