जिला पंचायत अध्यक्ष सुभाष वर्मा ने किया राजा उमराव सिंह स्मृति द्वार का शुभारंभ, कहा राजा उमराव सिंह के बलिदान और त्याग को कभी भुलाया नहीं जा सकता

झबरेड़ा । जिला पंचायत अध्यक्ष सुभाष वर्मा ने आज मानकपुर आदमपुर ग्राम में शहीद राजा उमराव सिंह स्मृति द्वार का शुभारंभ कराया। इस अवसर पर उन्होंने कहा है कि राजा उमराव सिंह के बलिदान और त्याग को कभी भुलाया नहीं जा सकता। मानकपुर आदमपुर व आसपास के काफी लोग की मौजूदगी में जिला पंचायत अध्यक्ष सुभाष वर्मा ने नवरात्रि के शुभारंभ के अवसर पर शहीद राजा उमराव सिंह स्मृति द्वार के निर्माण का कार्य शुरू कराया है । उन्होंने कहा है कि शहीद राजा उमराव सिंह ने समाज और राष्ट्र के लिए बलिदान दिया है। उनका त्याग सभी के लिए प्रेरणादायक है। युवा पीढ़ी को शहीद राजा उमराव सिंह से प्रेरणा लेकर राष्ट्र और समाज के लिए बढ़-चढ़कर काम करना चाहिए। जिला पंचायत अध्यक्ष सुभाष वर्मा ने शहीद राजा उमराव सिंह को नमन किया और कहा है कि राजा हम सबके लिए पूजनीय हैं। जिला पंचायत अध्यक्ष होने के नाते उन्हें शहीद राजा उमराव सिंह का स्मृति द्वार बनाने का सौभाग्य प्राप्त हुआ है।

इस अवसर पर भाजपा के वरिष्ठ नेता सुबोध राकेश ने शहीद राजा उमराव सिंह को नमन किया और कहा है कि यह क्षेत्र वीरों की धरती है। शहीद राजा उमराव सिंह ने राष्ट्र और समाज के लिए लंबी लड़ाई लड़ी। उनके बलिदान और त्याग कि सामने सभी नतमस्तक है। उन्होंने कहा है कि जिला पंचायत अध्यक्ष सुभाष वर्मा ने शहीद राजा उमराव सिंह के आए स्मृति द्वार का निर्माण का कार्य शुरू करा कर क्षेत्र की जनता का दिल जीत लिया है। सभी क्षेत्र वासियों की भावना शहीद राजा उमराव सिंह से जुड़ी हुई है। स्मृति द्वार का निर्माण शुरू कराने पर जिला पंचायत अध्यक्ष बधाई के पात्र हैं। इस अवसर पर मुख्य रुप से जिला सहकारी बैंक के पूर्व अध्यक्ष एवं इकबालपुर गन्ना विकास समिति के प्रशासक सुशील चौधरी , गजेन्द्र चौधरी , राजीव प्रधान मानकपुर , जोध सिंह , नवनीत चौहान आदि बड़ी संख्या में लोग मौजूद रहे। निर्माण कार्य शुरू हो कराने के बाद जिला पंचायत अध्यक्ष ने क्षेत्रवासियों की समस्याएं सुनी। इस पर जिला पंचायत अध्यक्ष सुभाष वर्मा ने बताया कि इकबालपुर गन्ना मिलने 31 मार्च तक का भुगतान समिति को भेज दिया है। उत्तम शुगर मिल ने भी काफी भुगतान समिति को भेजा है। सरकार की कोशिश है कि जल्द से जल्द सारा भुगतान कराया जाए और नया पेराई सत्र बहुत जल्द शुरू हो। ताकि किसान समय से गेहूं व रबी की अन्य फसलों की बुवाई कर सकें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *