श्री कृष्ण युगों-युगों से हमारी आस्था के केंद्र: वीके त्यागी, केंद्रीय विद्यालय क्रमांक-1 में जन्माष्टमी प्रतियोगिता कराई गई

रुड़की । केंद्रीय विद्यालय क्रमांक-एक रुड़की में जन्माष्टमी तथा संस्कृत सप्ताह के अवसर पर विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन
जैसा कि हम जानते है, हमारा देश पुरातन काल से विभिन्न संस्कृतियों एवं त्योहारों को संजोता आया है। अपने पूर्वजों के संस्कारों और सांस्कृतिक धरोहरों के बीज हम अपने बच्चों के माध्यम से आने वाली पीढ़ी में बोते है| इसी के अंतर्गत केंद्रीय विद्यालय क्रमांक-एक रुड़की में जन्माष्टमी तथा संस्कृत सप्ताह के अवसर पर विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया गया। जन्माष्टमी पर्व को भगवान श्री कृष्ण के जन्मदिन के रूप में मनाया जाता है। इस अवसर पर विद्यार्थियों को शुभकामनाएं देते हुए प्राचार्य वी के त्यागी ने कहा कि यह पर्व पूरी दुनिया में पूर्ण आस्था एवं श्रद्धा के साथ मनाया जाता है। जन्माष्टमी को भारत में ही नहीं, बल्कि विदेशों में बसे भारतीय भी पूरी आस्था व उल्लास से मनाते हैं। श्री कृष्ण युगों-युगों से हमारी आस्था के केंद्र रहे हैं।
इस अवसर पर विद्यालय में आयोजित विभिन्न प्रतियोगिताओं में जन्माष्टमी फैंसी ड्रेस प्रतियोगिता में प्राथमिक विभाग से अभय गिरी ( 1 ब ) , प्रशांत (2 अ ), पृथ्वी राज (3 ब ), शताक्षी (4 ब ), कृष्णा तोमर (5 ब ) प्रथम स्थान पर रहे ।
कक्षा 6 से 8 वर्ग में अंश कान्त मिश्रा ( 6 ब ) प्रथम स्थान पर रहे, जबकि गायन प्रतियोगिता में प्रशस्ति श्रीवास्तव (9 अ) ने प्रथम स्थान प्राप्त किया| नृत्य प्रतियोगिता कक्षा 9 से 12 वर्ग में लवीना कल्याणी (11 स )ने प्रथम स्थान प्राप्त किया ।
पोस्टर मेकिंग प्रतियोगिता में कक्षा 6 से 8 वर्ग में तनु (6 अ ) प्रथम स्थान पर रहे जबकि कक्षा 9 से 12 वर्ग में अंजलि (12 स ) प्रथम स्थान पर रही।
संस्कृत सप्ताह के अंतर्गत भी अनेकों प्रतियोगिताएं करायी गयी। इसमें निबंध लेखन प्रतियोगिता में कक्षा 6 से 8 वर्ग में आयुष प्रसाद (6 ब) प्रथम स्थान पर रहे जबकि कक्षा 9 से 12 वर्ग में रिया (9 अ ) प्रथम स्थान पर रही ।
श्लोक वाचन प्रतियोगिता में कक्षा 6 से 8 वर्ग में आयुष प्रसाद (6 ब) प्रथम स्थान पर रहे जबकि कक्षा 9 से 12 वर्ग में प्राप्ति सिंह पोसवाल (9 ब )एवं आफिया (10 स ) प्रथम स्थान पर रही |
कहानी लेखन प्रतियोगिता में कक्षा 6 से 8 वर्ग में सिद्धार्थ (8 स) प्रथम स्थान पर रहे जबकि कक्षा 9 से 12 वर्ग में श्रुति अन्थ्वाल (12 स ) प्रथम स्थान पर रही ।
कथा वाचन प्रतियोगिता में कक्षा 6 से 8 वर्ग में आयुष प्रसाद (6 ब) प्रथम स्थान पर रहे जबकि कक्षा 9 से 12 वर्ग में प्राप्ति सिंह पोसवाल (9 ब ) प्रथम स्थान पर रही ।
चित्रकला प्रतियोगिता में कक्षा 6 से 8 वर्ग में हिमानी (8 स ) प्रथम स्थान पर रही जबकि कक्षा 9 से 12 वर्ग में हिमांशी (12 स ) प्रथम स्थान पर रही ।
प्राथमिक विभाग से चित्रकला प्रतियोगिता में दृष्टि पन्त (3 ब ) तथा उन्नति (5 अ ) प्रथम स्थान पर रहे।
इस अवसर पर अपने ऑनलाइन संबोधन में प्राचार्य वी के त्यागी ने कहा कि संस्कृत भारत की एक शास्त्रीय भाषा है| आज भी हिन्दू धर्म के अधिकतर यज्ञ और पूजा संस्कृत में ही होती हैं। संस्कृत को विश्व की अन्य भाषाओं की जननी माना जाता है।दुनियाभर में सिर्फ संस्कृत ही एक ऐसी भाषा है जो पूरी तरह सटीक है, इसका कारण है इसकी शुद्धता । सभी विद्यार्थियों को संस्कृत भाषा जरुर सीखनी चाहिए।
उपप्राचार्या श्रीमती अंजू सिंह ने सभी विजयी प्रतिभागियों तथा उनके शिक्षकों को बधाई देते हुए कहा कि विद्यालय ही वह स्थान होता है जहाँ बच्चे अपने सांस्कृतिक धरोहरों के बारे में जानते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.