कईयों ने कांग्रेस जिलाध्यक्ष पद की दावेदारी छोड़ी, लंबी इंतजार के कारण निराश हुए दावेदार

रुड़की । जिलाध्यक्ष पद पर नियुक्ति में देरी के कारण कांग्रेस के कई दावेदारों ने अपनी दावेदारी एक तरह से वापस ले ली है। उनका कहना है कि अब कुछ समय के लिए जिलाध्यक्ष बनना समझदारी नहीं है। क्योंकि रुड़की कांग्रेस ग्रामीण जिला अध्यक्ष का पद काफी समय से रिक्त पड़ा है ।यदि इस पद पर नियुक्ति शुरू में ही हो जाती तो जिला अध्यक्ष को मजबूत कार्यकारिणी बनाने के साथ ही पार्टी को गांव स्तर पर मजबूत करने का पूरा अवसर मिलता है। इससे कोई भी जिलाध्यक्ष त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में अच्छा रिजल्ट दे सकता था। लेकिन अब कब तो जिलाध्यक्ष नियुक्त होगा और कब जिला कार्यकारिणी गठित होगी। इसके बाद गांव स्तर पर कब पार्टी की मजबूती को लेकर अभियान चलेगा। इन सब बातों को ध्यान में रखते हुए कांग्रेस जिलाध्यक्ष पद के अधिकतर दावेदार अपने कदम पीछे हटा लिए हैं। सेठपाल परमार रुड़की ग्रामीण जिला अध्यक्ष पद के प्रमुख दावेदार थे। उनके बारे में भी यही माना जा रहा है कि जब उन्हें लगा कि रुड़की ग्रामीण जिला अध्यक्ष पद पर अभी नियुक्ति नहीं हो पा रही है तो उन्होंने किसान कांग्रेस का जिला अध्यक्ष बनना उचित समझा। पार्टी सूत्रों की मानें तो पूर्व में जहां इस पद के लिए 2 दर्जन से अधिक दावेदार थे। अब तीन चार दावेदार ही रह गए हैं। अधिकतर दावेदार तो मीडिया को भी यह कह रहे हैं कि अब उनका नाम जिला अध्यक्ष पद की दावेदारी में ना लिखा जाए। राजनीतिक जानकार भी मान रहे हैं कि कांग्रेस संगठन के लिहाज से रुड़की क्षेत्र में बेहद कमजोर हो गई है । बहुजन समाज पार्टी में तो ब्लॉक और तहसील स्तर पर संगठन थोड़ा सक्रिय है भी। लेकिन कांग्रेस में तो संगठन के नाम पर कभी कोई बैठक तक नहीं हो रही है। जिस कारण पार्टी कार्यकतार्ओं का भी मनोबल गिरता जा रहा है। निश्चित रूप से आने वाले चुनाव में कांग्रेस को इसका नुकसान होगा। हालांकि कांग्रेस के पूर्व जिलाध्यक्ष एवं पार्टी के वरिष्ठ नेता डॉक्टर संजय पालीवाल का कहना है कि रुड़की जिला अध्यक्ष पद की नियुक्ति पर विचार चल रहा है। इस संबंध में जल्द ही कोई निर्णय लिया जाएगा। रुड़की ग्रामीण जिला अध्यक्ष पद फॉरेन कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह खुद ही नाम तय करेंगे। इस बाबत कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष की पार्टी के तीनों विधायक काजी निजामुद्दीन, ममता राकेश और हाजी फुरकान अहमद से बातचीत भी हो चुकी है। वहीं पार्टी के कुछ लोगों का कहना है कि जिला अध्यक्ष पद नियुक्ति को लेकर पार्टी के वरिष्ठ नेता डॉक्टर संजय पालीवाल और तीनों विधायक काफी समय से यही आश्वासन देते आ रहे हैं कि जिला अध्यक्ष पद की नियुक्ति जल्द होगी। लेकिन इसी तरह के आश्वासन में काफी समय बीत गया है । पर नियुक्ति कब होगी इसको लेकर प्रदेश अध्यक्ष की ओर से अभी तक कोई ठोस आश्वासन दावेदारों को नहीं मिला है। कांग्रेस रुड़की ग्रामीण जिला अध्यक्ष पद पर जितेंद्र पवार, एडवोकेट राजेंद्र चौधरी, राजीव राठौर, नासीर परवेज,राव अथर अली, मुनीर आलम वीरेंद्र ठाकुर के नाम अभी भी चर्चा में है। पर चर्चा कब हकीकत में बदलेगी इसको लेकर पार्टी के वरिष्ठ नेता भी पूरी तरह मुतमईन नहीं है। हां इस बीच कुछ नेताओं का कहना है कि जब तक पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत की हरी झंडी नहीं मिलेगी। तब तक रुड़की कांग्रेस ग्रामीण का जिला अध्यक्ष नियुक्त नहीं होगा। नाम चर्चा में है उनमें से अधिकतर नाम पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत के समर्थक हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *