पैरों के तलवों में करें सरसों के तेल से मालिश, तनाव सहित ये दिक्कतें होंगी दूर

पुराने समय से ही सरसों का तेल आयुर्वेद से लेकर हर चीज में फायदेमंद माना गया है. सेहत के लिए भी सरसों का तेल हमेशा से अच्छा माना गया है. खाने के साथ-साथ काई और तारिकों से भी इसका इस्तेमाल किया जा सकता है. सरसों के तेल में बना भोजन बहुत ही स्वादिष्ट लगता है. इसके तेल से खाने में एक अलग रंगत और खुशबू भी आती है. इसके अलावा सरसों का तेल कई बीमारियों में भी उपयोगी है. आइये जानें इससे पहुंचने वाले अन्य फायदों के बारे में…

सरसों के तेल के फायदे-

तनाव
अगर आप तनाव से ग्रस्त रहते हैं, तो पैरों के तलवों में सरसों के तेल से मालिश कर सकते हैं. हल्को गुनगुने सरसों के तेल से मालिश करने पर बॉडी में ब्लड सरकुलेशन अच्छा होता है. साथ ही इससे आपको अधिक तनाव और टेंशन से राहत मिलती है.

जोड़ों के दर्द में आराम
शरीर की सरसों के तेल से मालिश करने से टखने, एड़ी और जोड़ों की हड्डियां मजबूती होती हैं. साथ ही सर्दियों में जकड़न और सूजन की समस्या भी दूर होती है. अगर आप पूरे दिन में काम की वजह से थका हुआ महसूस करते हों और पैरों में दर्द रहता है, तो आपको रात को सोते समय पैरों में सरसों के तेल से मालिश करनी चाहिए. इससे आपको काफी आराम मिलेगा.

पीरियड्स में आराम
पैर के तलवों में सरसों के तेल से मालिश करने पर महिलाओं को पीरियड्स के दौरान होने वाले दर्द और ऐठन में राहत मिलती है. साथ ही इससे ब्लड फ्लो भी बेहतर रहता है. जिससे ब्लड क्लॉट की समस्या नहीं होती है.

अच्छी नींद
रात को सोने से पहले पैरों के तलवों में सरसों के तेल की मालिश करने से अच्छी नींद आती है. साथ ही दिनभर की थकान भी दूर हो जाती है. अगर रात में बीच-बीच में आपकी नींद खुलती है, तो ऐसा करके सोने से आप को अनिद्रा की समस्या से राहत मिलेगी.

आंखों की रोशनी
बढ़ती उम्र के साथ जिन लोगों की आंखों की रोशनी कम हो रही है, वो लोग पैरों के तलवे पर सरसों के तेल से मालिश कर सकते हैं. कुछ ही दिन में फर्क नजर आएगा. इससे आंखों की रोशनी तेज होती है.

पाचन की समस्या
अगर आपको पेट से जुड़ी कोई समस्या रहती है, तो रात में सोने से पहले नाभि में दो बूंद सरसों का तेल डालें. रोजाना ऐसा करने से आपकी स्किन क्लियर होगी. साथ ही पिंपल्स और मुंहासों की समस्या भी दूर होगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *