कुम्भ महापर्व का अमृत सन्देश ही आधुनिक संजीवनी: सतपाल महाराज, कैबिनेट मंत्री ने विशाल अध्यात्म-योग-साधना शिविर के दूसरे दिन श्रद्धालुओं को किया संबोधित

हरिद्वार । उत्तराखंड के पर्यटन, संस्कृति कैबिनेट मंत्री एवं सुप्रसिद्ध समाजसेवी सतपाल महाराज ने कहा कि कुम्भ महापर्व सदियों से चलाआ रहा भारतीय सनातन संस्कृति का अद्वितीय महापर्व है जिसका अमृतमय सन्देश आत्मसात करकेही विश्व को विनाश से बचाया जा सकता है। महाराज ने प्रेमनगर आश्रम स्थितगोवर्धन हॉल में आयोजित विशाल अध्यात्म-योग-साधना शिविर के दूसरे दिन श्रद्धालुओं को सम्बोधित करते हुए कहा कि हमें कोविड-19 के सभी नियमों का पालन करते हुए अपने दैनिकतथा सामाजिक कार्यों  को करने की आदत बनानीहै। महाराज ने कहा कि भारत के ऋषि-महऋषियों एवं धर्म शास्त्रों के ज्ञान का मूल है कि समस्त प्राणियोंके श्वांस-प्रश्वांस में समाये प्रभु-नाम के अध्यात्म तत्व-ज्ञान से ही मानव के विनाशकारीमन पर काबू किया जा सकता है। समुद्र मंथन से अमृत कुम्भ निकला और उसकी बूँदें चार स्थानोंपर गिरीं जहां पर हर बारह वर्ष में कुम्भ मनाया जाता है। श्री महाराज जी ने अपने सम्बोधन में कहा कि भारतका प्राचीन विज्ञान इतना उन्नत था कि ऋषि-महाऋषियों को यह ज्ञात था कि बारह वर्ष मेंबृहस्पति सूर्य की राशि में लौटता है। जिससेमहा-योग की स्थिति उत्पन्न होती है तथा इसी पावन योग में कुम्भ पर्व मनाया जाता है। उन्होंने कहा कि समुद्र से निकले चौदह रत्नो में पहलेविष निकला जिसके विनाश से भगवान् शिव ने संसार की रक्षा की। अतः आज मानव मन को अध्यात्मज्ञान से संतुलित करके ही मन के सागर मंथन से हम अमरत्व की दिशा प्राप्त कर सकते हैं।इसलिए हमें अपने समाज की व राष्ट्र सहित समग्र मानवता की प्रगति को सुनिश्चित व सुरक्षितरखने हेतु हम सबको कुम्भ अर्थात घड़ा बनकर अच्छाइयों का संग्रह अपने अंदर करना होगा।तभी हम विनाशकारी शक्तियों का डटकर मुकाबला करते हुए अमृतत्व की शक्ति से अपने व अपनेसमाज की रक्षा कर भारत को एक महाशक्ति बना सकते हैं। कार्यक्रम में पूर्व कैबिनेट मंत्री श्रीमती अमृता रावत सहित देशसे विभिन्न राज्यों से आये हुए अनेक-अनुभवी संत-महात्माओं ने अपने विचार रखे तथाकार्यक्रम में सुप्रसिद्ध कलाकारों ने अपने सुमधुर भजनों  से श्रद्धालुओं को मंत्र मुग्ध किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.