रुड़की में संघ कार्यकर्ताओं ने प्रमुख मोहन भागवत का उद्बोधन सुना, मोहन भागवत ने कहा निस्वार्थ भाव से सेवा करें कार्यकर्ता

रुड़की । रुड़की में बड़ी संख्या में संघ के कार्यकर्ताओं ने अपने-अपने परिवारों के साथ संघ प्रमुख मोहन भागवत का उद्बोधन सुना उन्होंने कोरोला जैसी बीमारी के समाधान के लिए संयम बहुत जरूरी बताया और लोकडाउन एवम सोशल डिस्टेंसिंग का पालन अनिवार्य रूप से बताया समाज को ऐसे समय में भय और क्रोध पर काबू रखना चाहिए निस्वार्थ भाव से सेवा करें और सेवा के दौरान आत्मनिर्भर होने की सीख भी दे पर्यावरण शुद्ध हो गया है आगे भी हम इसे शुद्ध रखें हमारी नैतिक जिम्मेदारी है पानी का संरक्षण करें वृक्षों का संरक्षण संवर्धन करें और स्वदेशी वस्तुओं पर निर्भरता बनाएं और लोग इस दौरान घरों में लोगों को अनिवार्य रूप से रहना पड़ा इसके कारण परिवार में भी एक संस्कार उत्पन्न हुआ है नागरिक अनुशासन का पालन जहां-जहां हुआ है वहां कोरोना धीरे-धीरे साफ हो रहा है रहा है उन्होंने समस्त देशवासियों से आह्वान किया कि इसे एक दूसरे के सहयोग से प्यार स्नेह भाव से करोना पर विजय प्राप्त करें राष्ट्रीय सेवक संघ ने राष्ट्र हित को ध्यान में रखते हुए 30 जून तक के सभी अनिवार्य कार्यक्रम स्थगित कर दिए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *