राष्ट्रीय तंबाकू नियंत्रण कार्यक्रम के अंतर्गत बैठक, अपर जिलाधिकारी ने कहा समाज को तम्बाकू मुक्त करने के लिए सबका सहयोग आवश्यक

हरिद्वार । अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व के.के मिश्रा की अध्यक्षता मे राष्ट्रीय तंबाकू नियंत्रण कार्यक्रम के अंतर्गत जिला सलाहकार समिति की बैठक रोशनाबाद स्थित कलेक्टर सभागार में सम्म्पन्न हुई। बैठक में राष्ट्रीय तम्बाकू नियन्त्रण कार्यक्रम के सम्बन्ध मे अपर जिलाधिकारी ने कहा कि समाज को तम्बाकू मुक्त करने के लिए सबका सहयोग आवश्यक है। तम्बाकू का प्रयोग करने वाले इसके दुःष्परिणामों से तो प्रभावित होते ही हैं, इसके अलावा आस-पास के लोग एवं वातावरण भी इससे प्रभावित होता है। उन्होंने कहा कि तम्बाकू का सेवन कैंसर, हृदय सम्बन्धी एवं अन्य अनेक रोगों का कारण बनता है। उन्होंने कहा कि सार्वजनिक स्थानों पर तम्बाकू का प्रयोग करने वालो पर जुर्माना लगाया जाए। शैक्षिक संस्थाओं के 100 गज के दायरे में तम्बाकू उत्पादों की बिक्री करना प्रतिबन्धित है। उन्होंने सभी अधिकारियों को निर्देश दिया कि अपने कार्यालयों को भी स्मोक फ्री करें। अपर जिलाधिकारी ने कहा कि युवा वर्ग को तम्बाकू का सेवन न करने, इसके उन्मूलन हेतु आगे आने के लिए प्रेरित किया जाए। उन्होंने शिक्षा विभाग को रेडक्रास का सहयोग लेकर स्कूली छात्र-छात्राओं को तम्बाकू सेवन न करने तथा सेवन से होने वाले दुष्परिणाओं से अवगत कराने के लिए कार्यशाला एवं जागरूकता कार्यक्रम चलाने को कहा। एसीएमओ हरिद्वार डा0 एच.डी. शाक्य ने बताया कि नशा मुक्ति हेतु जागरूकता अभियान चलाए जाने के साथ-साथ सार्वजनिक स्थानों पर तम्बाकू का सेवन करते हुये 128 चालान छापामार दल द्वारा तथा पुलिस विभाग द्वारा 25 चालान काटे गये। चालान करने के साथ-साथ लोगो को तम्बाकू छोडने की काउसंलिग भी की जा रही है।
इसके उपरान्त राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस कार्यक्रम 2020 के अन्तर्गत होने वाले कार्यक्रमों के सम्बन्ध में एसीएमओ डाॅ0 एच.डी. शाक्य ने अपर जिलाधिकारी को जानकारी देते हुये बताया कि सभी विद्यालयों में व आगंनवाडी केन्द्रों मे 10 फरवरी 2020 को राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस व 17 फरवरी 2020 को माॅप राउड का आयोजन किया जायेगा। जनपद में 8 लाख से अधिक बच्चों को एल्बेंडाजाॅल की खुराक दी जाएगी। डाॅ0 शाक्य ने बताया कि 07 फरवरी 2020 को जिला स्तरीय व ब्लाॅक स्तरीय उद्घाटन किया जायेगा। उन्हाने बताया कि कृमि संक्रमण के इलाज के अन्तर्गत एल्बेंडाजाॅल 02 से 19 वर्ष के बच्चों को आयु अनुसार ही खुराक दी जायेगी। अपर जिलाधिकारी ने कहा कि खाना खाने के बाद ही बच्चों को एल्बेंडाजाॅल की टेबलेट दें, खाली पेट दवा न दें।
कवरेज में वृद्धि के लिए निजी स्कूलों और मदरसों, केन्द्रीय विद्यालयों, नवोदय विद्यालयों सभी स्कूल और आंगनवाडी केन्द्रों में कृमि मुक्ति दिवस पर डिवार्मिग की दवाई खिलाई जायेगी। अपर जिलाधिकारी ने निर्देश दिये कि इस कार्यक्रम की जानकारी हेतु विशेष तौर प्रचार प्रसार किया जाये और जो बच्चे बीमारी या अनुपस्थिति के कारण इस दवाई का सेवन न कर पाये उन्हें माॅप- अप दिवस 17 फरवरी पर दवाई जरूर खिलाएं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *