शादी का पता चलने पर दूसरी पत्नी को उतारा था मौत के घाट, जंगल में फेंक दिया था शव, पुलिस ने किया खुलासा

ऋषिकेश । ऋषिकेश कोतवाली के आइडीपीएल चौकी अंतर्गत नौ दिसंबर को हत्या कर जंगल में युवती का शव फेंक दिया गया था। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में गला घोट कर हत्या करने की पुष्टि हुई थी। इस मामले में कोतवाली पुलिस ने महिला के पति संजय भारद्वाज को गिरफ्तार कर लिया है। पहले से शादीशुदा संजय भारद्वाज ने अपनी दूसरी पत्नी आरती को रास्ते से हटाने के लिए एक दिसंबर को उसकी हत्या कर दी थी। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के मुताबिक युवती की गला घोटकर हत्या की गई थी। बीते वर्ष नौ दिसंबर गुरुवार की दोपहर आइडीपीएल गोल चक्कर के समीप स्थित जंगल में कुछ लोग लकड़ी बिनने गए थे। जहां उन्हें एक युवती का शव पड़ा मिला था। सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस को युवती के शव के पास ही उसके चप्पल तथा कुछ दूरी पर एक लाल रंग का बैग पड़ा मिला था। पुलिस ने बैग की जांच की तो उसमें नौ नवंबर का ट्रेन का टिकट और कुछ अन्य सामान मिला। एक कागज में मिले नाम पते के आधार पर मृतक की शिनाख्त आरती भोई (28 वर्ष) पुत्री रविंद्र भुई निवासी ग्राम अड़क्का थाना बिरडी जिला जगतसिंहपुर ओडिसा के रूप में हुई थी। उसके पास जो कागज मिला उसमें रेलवे टिकट बुकिंग की डिटेल लिखी हुई थी। जिसमें पुरी एक्सप्रेस में हरिद्वार से कटक तक स्लीपर टिकट था। जब पुलिस ने जांच की तो पता चला कि यह टिकट कैंसिल हो गया था। मृतक के शरीर पर किसी तरह की चोट आदि के निशान नहीं मिले थे। इस मामले में पुलिस ने जब जांच की तो पता चला कि आरती हरिद्वार स्थित एक फैक्ट्री में काम करती थी। उसकी शादी बलिया उत्तर प्रदेश निवासी संजय भारद्वाज के साथ हुई थी, जो उसे कुछ दिन पहले ही छोड़कर जा चुका था। आरती भोई हरिद्वार सिडकुल में एक फैक्ट्री में काम करती है। पुलिस के मुताबिक, संजय भारद्वाज की आरती से दूसरी शादी हुई थी। उसकी पहली पत्नी कृष्णा नगर कालोनी आइडीपीएल निवासी है। करीब 12 वर्ष पूर्व उसकी शादी हो गई थी, उसके दो बच्चे भी हैं। एसपी देहात कमलेश उपाध्याय ने कोतवाली में इस हत्याकांड का पर्दाफाश करते हुए बताया कि इस मामले में गहन जांच के बाद पता चला कि आरती को पता चल गया था कि उसके पति की पहले से दूसरी पत्नी है। इस बात को लेकर संजय भारद्वाज का पहली पत्नी से भी विवाद होता था। उधर दूसरी पत्नी भी उसके साथ अलग रहने पर दबाव बना रही थी। जिस कारण संजय भारद्वाज ने आरती को अपने रास्ते से हटाने की योजना बनाई। एक दिसंबर को वह उसे हरिद्वार से ऋषिकेश लेकर आया। उसी रोज सुबह करीब 7:30 बजे उसने आइडीपीएल के जंगल में उसकी गला दबाकर हत्या कर दी और मौके से फरार हो गया। प्रभारी निरीक्षक रवि सैनी के मुताबिक गहन जांच के बाद इस बात की तस्दीक हो गई थी कि संजय भारद्वाज ने ही यह हत्या की है। संजय को पुलिस टीम ने बीती शाम हरिद्वार से गिरफ्तार कर लिया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *