आईआईटी के खाते से उड़ाए थे एक करोड़ पांच लाख, संस्थान के आरोपी क्लर्क को पुलिस ने किया गिरफ्तार

रुड़की । आईआईटी रुड़की के खाते से एक करोड़ से अधिक धनराशि अपने खाते में ट्रांसफर करने के आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। आरोपी पिछले करीब 1 वर्ष से फरार चल रहा था। सिविल लाइंस कोतवाली में घटना का खुलासा करते हुए वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक हरिद्वार डॉ योगेंद्र सिंह रावत ने बताया कि 11 दिसंबर 2020 को प्रशांत गर्ग पुत्र स्वर्गीय अनिल गर्ग निवासी थॉमस फेमस बिल्डिंग मुख्य भवन आईआईटी रुड़की ने कोतवाली में तहरीर दी कि उनके संस्था के कर्मचारी धीरज उपाध्याय द्वारा धोखाधड़ी से 13 बैंक ट्रांजैक्शन के माध्यम से संस्था के खाते से 1 करोड़ 5 लाख 35 हजार 753 अपने निजी खाते में स्थानांतरित कर लिए। पुलिस ने आरोपी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर उसकी तलाश शुरू कर दी थी लेकिन आरोपी तब से फरार चल रहा था अप पुलिस टीम में उसकी तलाश करते हुए आरोपी को 25 अक्टूबर को भंगेड़ी महावतपुर स्थित किराए के मकान से गिरफ्तार किया। आरोपी ने पूछताछ में बताया कि वह डीन ऑफिस में सीनियर असिस्टेंट के पद पर तैनात था और वह 2017 के द्वारा अनुदान राशि खाते में ट्रांसफर किया जा रहा था उसके व्यक्तिगत बैंक खाते में 20 लाख रुपए जमा हैं। पुलिस टीम में कोतवाली प्रभारी अमर चंद शर्मा,उप निरीक्षक नरेंद्र सिंह, कांस्टेबल विनोद चपराना, रघुवीर सिंह और अरविंद शामिल रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.