टीएचआर राशन ठेकेदारों को दिए जाने का विरोध, भगवानपुर में स्वयं समूह की महिलाओं ने ज्ञापन भेजकर की मांग, कहा यह फैसला महिलाओं के हित में नहीं

भगवानपुर । टीएसआर राशन को ठेकेदारों को दिए जाने पर प्रदेशभर की महिला स्वयं समूह इसका विरोध कर रही है। भगवानपुर में महिलाओं ने भाजपा नेता सुबोध राकेश के माध्यम से सीएम और जिलाधिकारी को ज्ञापन भेजा। पत्र में लिखा हरिद्वार जिले में महिला बाल विकास के माध्यम से आंगनवाड़ी केंद्र में 50 महिला स्वयं सहायता समूह के माध्यम से लगभग 500 गरीब महिलाओं को रोजगार प्रदान किया जा रहा है। जिसमें 90% महिलाएं कार्य कर रही है। जिस कारण उन्हें रोजगार तो प्राप्त हो ही रहा है साथ में आत्मनिर्भर भी बन रही है यही स्थिति अन्य जिलों की भी है। अखबार के माध्यम से निदेशालय महिला सशक्तिकरण एवं बाल विकास विभाग देहरादून की विविधता विज्ञप्ति पत्र के माध्यम से ज्ञात हुआ कि टैंक होम राशन हेतु पूरे उत्तराखंड के लिए टेंडर प्रक्रिया की जा रही है। आपको अवगत कराना है कि इसी प्रकार प्रदेश के विभिन्न जिलों में महिला एवं समूह सहायता के माध्यम से हजारों महिलाएं टैंक होम राशन पैक कर आंगनवाड़ी केंद्रों पर राशन वितरण करने का कार्य कर अपनी आय सृजन का कार्य कर रही है और यदि यह कार्य सभी महिलाएं स्वयं समूह से छीन का केवल एक ठेकेदार को दिया जाए तो इससे प्रदेश में कार्य कर रहे सभी समूह पर रोजगार संकट उत्पन्न हो जाएगा महिलाओं का आर्थिक जीवन प्रभावित होगा। इस संदर्भ में यह भी अवगत कराना है कि उत्तम न्यायालय भी सुंदर में दिनांक 9 मार्च 2012 को समूह द्वारा टी एच आर बांटने हेतु आदेशित कर चुका है और यदि फिर भी टेंडर प्रक्रिया की जाती है तो यह सुप्रीम कोर्ट की अवहेलना होगी। एक तरफ सरकार द्वारा महिला सशक्तिकरण की बात कर उन्हें रोजगार से जोड़ने की की जाती है वहीं दूसरी ओर महिलाओं द्वारा किए जा रहे हैं छोटे-छोटे कार्यो को भी छीन कर एक बड़े ठेकेदार के हाथ में दिया जाता है इनका हम सभी महिला पूर्ण रुप से विरोध करती है। विभिन्न जिलों में कार्य कर रही महिला समूह से इस कार्य को नाचना जाए जिससे महिला रोजगार से जुड़कर आत्मनिर्भर बनी रहे। इस मौके पर नीलम सैनी मिथलेश वरीशा पूनम रानी सरिता हेमा सरिता आदि मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.