एनओसी के विरोध में आश्रम व धर्मशाला संचालकों ने सिटी मजिस्ट्रेट कार्यालय पर किया प्रदर्शन, प्रदूषणा नियंत्रण बोर्ड के सदस्य एसपी सद्बुद्धि को बर्खास्त करने की मांग की

हरिद्वार । राष्ट्रीय धर्मशाला सुरक्षा समिति के तत्वाधान में धर्मशालाओं, आश्रमों व अखाड़ों से प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा एनओसी लिए जाने के विरोध में सिटी मजिस्ट्रेट कार्यालय पर प्रदर्शन कर धरना दिया। समिति की ओर से इस संबंध में मुख्यमंत्री को ज्ञापन भी प्रेषित किया गया। धरने को संबोधित करते हुए समिति के अध्यक्ष महेश गौड़ ने कहा कि धर्मशालाएं व आश्रम धर्मनगरी के पौराणिक स्वरूप को आज भी बचाए हुए हैं तथा मात्र व्यवस्था शुल्क पर तीर्थ यात्रियों को आश्रम उपलब्ध करा रहे हैं। धर्मशालाओं व आश्रमों द्वारा बिजली, पानी, गृहकर, सीवर कर आदि का भुगतान भी नियमानुसार किया जा रहा है। आश्रमों एवं धर्मशालाओं में किसी भी प्रकार की व्यवसायिक गतिविधियां भी संचालित नहीं की जाती हैं। ना प्रदूषण संबंधी नियमों का उल्लंघन किया जाता है। सभी आश्रमों एवं धर्मशालाओं के सीवेज कनेक्शन भी जुड़े हुए हैं। पर्यावरण संरक्षण संबंधी सभी नियमों का पालन भी किया जा रहा है। लेकिन सरकार द्वारा धर्मशालाओं एवं आश्रमों पर रोजाना नए नए नियम लागू कर उत्पीड़न किया जा रहा है। सभी नियमों का पालन करने के बावजूद प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा धर्मशाला व आश्रम संचालकों से एनओसी मांग कर अनावश्यक रूप से परेशान किया जा रहा है। जिसे सहन नहीं किया जाएगा। व्यवस्था शुल्क के आधार पर तीर्थ यात्रियों को आश्रम प्रदान कर रहे आश्रमों एवं धर्मशालाओं को राहत देनी चाहिए। आश्रमों व धर्मशाला संचालकों का उत्पीड़न कतई सहन नहीं किया जाएगा। उन्होंने मांग की कि प्रदूषणा नियंत्रण बोर्ड के सदस्य एसपी सद्बुद्धि को बर्खास्त किया जाए। चेतन ज्योति आश्रम के महंत शिवानन्द महाराज ने कहा कि आश्रम व धर्मशालाएं हरिद्वार आने वाले तीर्थ यात्रियों को निःशुल्क सेवा एवं सुविधाएं प्रदान करती हैं तथा किसी प्रकार का कोई प्रदूषण नहीं फैलाते हैं। प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा एनओसी लिए जाने के निर्णय को तत्काल खारिज किया जाए। देवपुरा आश्रम के महंत गुरमीत सिंह महाराज ने कहा कि हरिद्वार में कुंभ के आयोजन को देखते हुए आश्रमों एवं धर्मशालाओं से किसी भी प्रकार का कर न वसूल किया जाए। समिति के संरक्षक रमेश ठाकुर ने कहा कि प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा एनओसी लिए जाने का कोई औचित्य नहीं है। धरना प्रदर्शन करने वालों में स्वामी शिवानन्द, गौरव भारद्वाज, स्वामी रविदेव शास्त्री, महंत गुरमीत सिंह, विजय शंकर दुबे, श्याम सुंदर, भूपेंद्र कुमार, भुवनचंद्र त्रिपाठी, श्रीनिवास पाण्डे, शिवकुमार शर्मा, गौरव भारद्वाज, डा.हर्षवर्द्धन, रामकुमार गुप्ता, राकेश मिश्रा, म.गोपाल गिरी, म.प्रमोद पुरी, नीरज पंत, जेपी तिवारी, अशोक गुप्ता, प्रकाश चंद्र जोशी, मदन शर्मा, गोविन्द वल्लभ आदि प्रमुख रूप से मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *