बीइंग भगीरथ के स्वयंसेवियों ने फूलों से खेली होली, प्राकृतिक रंगों का उपयोग करने का किया आह्वान

हरिद्वार । बीइंग भगीरथ की ऊर्जावान टीम ने होली महोत्सव धूमधाम व हर्षोल्लास व उमंग के साथ मनाया। कनखल स्थित गंगा वाटिका में हास्य कवि सम्मेलन का आयोजन भी किया गया। हास्य कवि अभिषेक द्वारा होली के मनमोहक गीतों पर सांस्कृतिक प्रस्तुतियां भी दी गयी। होली के पर्व के उत्सव में चाईनीज रंगों के स्थान पर प्राकृतिक रंगों का इस्तेमाल करने का आह्वान भी किया। कार्यक्रम संयोजक राहुल, अभिनव व कुणाल ने कार्यक्रम में पहुंचे अतिथीयों का चंदन का टीका लगाकर स्वागत किया। इस अवसर पर बीइंग भगीरथ के संयोजक शिखर पालीवाल ने कहा कि हमारी संस्कृति को दर्शाने वाला पर्व है। एकता व भाईचारे के साथ पूरे देश में होली पर्व हर्षोल्लास व उत्साह के साथ मनाया जाता है। मतभेद भुलाकर पर्व को एक दूसरे के साथ मनाना चाहिए। शिखर पालीवाल ने कहा कि बीइंग भगीरथ की टीम द्वारा मंदिर में चढ़ने वाले पुष्पों से निर्मित रंगों से ही उत्लास के साथ पर्व की खुशीयों को बांटा। उन्होंने कहा कि प्राकृतिक रंगों का इस्तेमाल होली के कार्यक्रमों में करना चाहिए। चाईनीज रंगों का पूर्ण रूप से बहिष्कार कर परंपरागत रंगों का इस्तेमाल होली पर्व में करें। अपने आसपास के वातावरण को शुद्ध रखने के लिए सभी को सहयोग प्रदान करना चाहिए। अनावश्यक रूप से पाॅलीथीन पन्नियों का प्रयोग त्यौहारों में कम से कम करें। उन्होंने सभी को होली पर्व की शुभकामनाएं दी। कार्यक्रम संयोजक राहुल, अभिनव व कुणाल ने कहा कि होली पर्व हमारी संस्कृति को दर्शाने वाला पर्व है। विशेषकर छोटे बच्चे व महिलाओं को होली पर्व के दौरान प्राकृतिक रंगों का इस्तेमाल करना चाहिए। सिंथेटिक कलर का इस्तेमाल कतई नहीं करें। सिंथेटिक कलर त्वचा व आंखों के लिए बेहद नुकसानदेह होते हैं। इनका प्रयोग करने से बचें और दूसरों को भी प्राकृतिक रंगों से होली मनाने के लिए प्राकृतिक करें। होली के उल्लास में पर्यावरण संरक्षण का ध्यान रखना कतई नहीं भूलें। होली उत्साह व उमंग का पर्व है। रंगों के इस पर्व को आपसी भाईचारे से मनाएं और सद्भावना व एकता का वातावरण बनाने में सहयोग करें। इस दौरान बीइंग भगीरथ के महिला विंग की सदस्यों को सम्मानित भी किया गया। महिला दिवस पूरे राज्य में उत्साहपूर्वक मनाने की अपील की। स्वयंसेवियों ने संयोजक शिखर पालीवाल को जन्म दिन की बधाई देते हुए मां गंगा से उनकी दीघार्यू की कामना की। इस अवसर पर मधु भाटिया, रेखा मलिक, नीरज शर्मा, जनक सहगल, सीमा चैहान, रूचिता उपाध्याय, संदीप खन्ना, संतोष साहू, तन्मय शर्मा, हितेश चैहान, विपुल गोयल, अमित जांगिड़, पंकज त्यागी, हन्नी, आदित्य भाटिया, मोहित विश्नोई, दिव्यांशु, इशांत, इन्द्रपाल वर्मा, अंकित, सचिन गांधी, अमन, सुमित कपूर, विपिन सैनी, शुभम सैनी, हर्षित, ऋषि, भविष्य, मनु काजला आदि शामिल रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *