हर की पौड़ी पर ही शाही स्नान करेंगे अखाड़ें, महाकुंभ मेले की व्यवस्थाओं को लेकर अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद की बैठक

हरिद्वार । श्री पंचायती अखाड़ा निर्मल में महाकुंभ मेले की व्यवस्थाओं को लेकर अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद की बैठक आयोजित की गयी। बैठक में सभी तेरह अखाड़ों के संत महापुरूषों ने हिस्सा लिया। बैठक के पश्चात पत्रकारों को बैठक की जानकारी देते हुए अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीमहंत नरेंद्र गिरी महाराज ने कहा कि धर्मनगरी में होने वाला महाकुंभ मेला अद्भूत रूप से संपन्न होगा। राज्य की त्रिवेंद्र सरकार से कुंभ मेले की व्यवस्थाओं को लेकर मांग की जा रही है। उन्होंने कहा कि आधे अधूरे निर्माण कार्य अतिशीघ्र पूरे किए जाएं। आश्रम अखाड़ों के समक्ष मार्गो का निर्माण अतिशीघ्र किया जाना चाहिए। निर्माण सामग्री भरपूर मात्रा में उपलब्ध करायी जाए। मठ मंदिरों आश्रम अखाड़ों के समक्ष चल रहे निर्माण कार्यो में रेत बजरी मिट्टी व पानी की आवश्यकता को पूर्ण रूप से लागू करते हुए तेजी के साथ निर्माण कार्य किए जाने चाहिए। शाही स्नान पौराणिक हरकी पैड़ी पर ही किया जाएगा। हमारी मान्यताओं का प्रतीक मां गंगा सभी की पालनहार है। उन्होंने कहा कि संत समाज लगातार हाईवे व फ्लाईओवर निर्माण कार्यो को लेकर कुंभ मेले के अधिकारियों व राज्य के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत से संपर्क साधे हुए है। महाकुंभ मेले के आयोजन में कम समय है। इसके मद्देनजर निर्माण कार्यो में तेजी लायी जाए। उन्होंने यह भी कहा कि राम मंदिर निर्माण ट्रस्ट में संतों को विशेष स्थान दिया जाना जरूरी है। केंद्र एवं राज्य सरकार महाकुंभ मेले की व्यवस्थाओं को लेकर गंभीरता से कार्य करे। जिससे बाहर से आने वाले श्रद्धालुओं व संत महापुरूषों को कुंभ मेले में किसी भी प्रकार की असुविधाएं ना झेलनी पड़े। उन्होंने यह भी कहा कि हाईवे निर्माण का कार्य अतिशीघ्र किया जाना चाहिए। क्योंकि हाईवे पर ही कंुभ मेले के आयोजन की सफलता भी निर्भर करती है। अधिकारी तत्परता से आधे अधूरे कार्यो को अतिशीघ्र पूरा करें। अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के महामंत्री श्रीमहंत हरिगिरी महाराज ने कहा कि महाकंुभ मेला भारतीय सनातन परंपराओं का केंद्र बिन्दु है। महाकुंभ मेले की व्यवस्थांए राज्य सरकार चाक चैबंद कराए। प्रयागराज की तर्ज पर ही धर्मनगरी के महाकुंभ मेले की व्यवस्थाओं को लागू हों। उन्होंनें स्थायी कार्यो को भी अधिक से अधिक किए जाने का आह्वान किया। श्री पंचायती अखाड़ा निर्मल के श्रीमहंत ज्ञानदेव सिंह महाराज ने कहा कि सभी प्रस्तावों को रविवार को मुख्यमंत्री के साथ होने वाली अखाड़ा परिषद की बैठक में रखा जाएगा। उन्होंने कहा कि अखाड़ों की छावनियों के आसपास से अतिक्रमण हटाकर छावनी मार्गो को दुरूस्त किया जाए। कनखल क्षेत्र में भी बड़ी संख्या में अतिक्रमण व्याप्त है। उसे जल्द से जल्द चिन्हित कर हटाया जाए। श्री पंच निर्वाणी अणी अखाड़े के श्रीमहंत धर्मदास महाराज ने कहा कि राममंदिर ट्रस्ट में तीनों वैष्णव अणी अखाड़ों के श्रीमहंतों को लिया जाए और एक जगद्गुरू रामानंदाचार्य को भी ट्रस्ट में जगह दी जाए। उन्होंने कहा कि बैरागी कैंप क्षेत्र में जल्द से जल्द अतिक्रमण हटाकर महाकुंभ मेले से जुड़ी व्यवस्थाओं को अक्टूबर माह तक पूर्ण किया जाए। श्रीपंच निर्मोही अणी अखाड़े के श्रीमहंत राजेंद्रदास महाराज ने कहा कि बैरागी कैंप से अवैध कब्जे हटाकर मेला भूमि का विस्तार किया जाना आवश्यक है। क्योंकि लाखों की संख्या में बैरागी संत कुंभ मेले के दौरान हरिद्वार आते हैं। उनकी आवश्यकता को मद्देनजर रखते हुए भी कुंभ कार्यो में तेजी लायी जाए। बैठक में श्रीमहंत रविन्द्रपुरी, महंत जसविन्दर सिंह, श्रीमहंत रामकिशोर दास, मुखिया महंत भगतराम, महंत नारायण गिरी, महंत प्रेमगिरी, श्रीमहंत साधनानंद, महंत रविन्द्रपुरी, महंत दामोदरदास, महंत देवेंद्र सिंह, महंत अमनदीप सिंह, श्रीमहंत ओंकार गिरी, महंत महेश पुरी, महंत मंगलदास, महंत सामेश्वरानन्द, महंत शंकरानंद, महंत सागर गिरी, श्रीमहंत कृष्णदास नगरिया, श्रीमहंत रामकिशोर दास आदि संत मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *