पांच शताब्दी बाद श्रीराम मंदिर निर्माण का शुभ अवसर आया: म.म.स्वामी कैलाशानंद ब्रह्मचारी महाराज, श्री दक्षिण काली पीठाधीश्वर के महाराज करेंगे राममंदिर निर्माण के लिए 11 लाख रूपए की राशि भेंट

हरिद्वार । श्री दक्षिण काली पीठाधीश्वर म.म.स्वामी कैलाशानंद ब्रह्मचारी महाराज ने पांच अगस्त को होने वाले श्रीराम जन्म भूमि पूजन पर हर्ष व्यक्त करते हुए कहा कि इस अवसर पर श्री दक्षिण काली मंदिर घाट पर इक्कीस सौ घी के दीपक जलाकर खुशी मनायी जाएगी तथा कुंतल लड्डुओं का प्रसाद का वितरण किया जाएगा। उन्होंने कहा कि पांच शताब्दी बाद श्रीराम मंदिर निर्माण का शुभ अवसर आया है। जो करोड़ों हिन्दुओं व रामभक्तों की तपस्या का प्रतिफल है। संत समाज ने लंबी कानूनी लड़ाई के पश्चात यह विजय हासिल की है और सुनहरा अवसर प्राप्त हुआ है। प्रत्येक भारतवासी को इस अवसर को दीपावली के रूप में मनाना चाहिए और अपने घरों को दीपक के प्रकाश से रोशन करना चाहिए। स्वामी कैलाशानंद ब्रह्मचारी महाराज ने कहा कि प्रभु श्रीराम करोड़ों हिन्दुओं की आस्था का केंद्र हैं। देश के यशस्वी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व संतों के सानिध्य में होने वाले श्रीराम जन्म भूमि पूजन से देश में एक नए युग की शुरूआत होगी और श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए बलिदान देने वाले हजारों रामभक्तों व संतों को सच्ची श्रद्धांजलि होगी। जो लोग श्रीराम मंदिर भूमि पूजन में सम्मिलित नहीं हो पा रहे हैं वे घरों में रहकर दीपक जलाकर इस गौरवशाली पल के साक्षी बनें। उन्होंने कहा कि श्रीराम मंदिर निर्माण शुरू होने के शुभ अवसर पर वे अपनी घोषणा के मुताबिक शीघ्र ही राम मंदिर ट्रस्ट को 11 लाख रूपए की धनराशि प्रदान करेंगे और सभी रामभक्तों से उन्होंने अपील करते हुए कहा कि सभी इस पुनीत कार्य में बढ़चढ़ कर सहयोग करें। इस अवसर पर म.म. स्वामी हरिचेतनानंद, बाबा बलरामदास हठयोगी, म.म. स्वामी प्रबोधानंद गिरी व महंत कमलदास महाराज ने कहा कि पांच अगस्त का दिन भारत का बहुत बड़ा व खुशीयों भरा दिन साबित होगा। क्योंकि पांच सौ साल बाद अयोध्या में भगवान श्रीराम लला के मंदिर का भूमि पूजन शुरू होने जा रहा है। स्वामी जगदीशानंद गिरी, आचार्य पवनदत्त मिश्र, पंडित प्रमोद पाण्डे, स्वामी अनुरागी, लालबाबा, अंकुश शुक्ला, शिवकुमार शर्मा, अनुज दुबे व अनुराग वाजपेयी आदि मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *