नवरात्रि के पहले दिन मां शैलपुत्री की होती है पूजा, मां का यह रूप भक्तों को मनचाहे वरदान का आशीर्वाद देता है

रुड़की । नवरात्रि में हर दिन मां के अलग स्वरूप की पूजा अर्चना की जाती है। आज चैत्र नवरात्रि का पहला दिन है यानी मां शैलपुत्री की अराधना का दिन। मां का यह रूप भक्तों को मनचाहे वरदान का आशीर्वाद देता है। नवरात्रि के पहले दिन घर में कलश स्थापना करने के बाद मां शैलपुत्री की पूजा की जाती है। मान्यता है कि इनकी पूजा से चंद्र दोष से मुक्ति भी मिल जाती है।
पूजा विधि: सबसे पहले मां शैलपुत्री की तस्वीर स्थापित करें। अगर तस्वीर न हो तो मां दुर्गा की ही प्रतिमा की पूजा करें। हाथ में लाल फूल लेकर शैलपुत्री देवी का ध्यान करें और इस मंत्र का जाप करें ‘ॐ ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डाय विच्चे ॐ शैलपुत्री देव्यै नम:’। मंत्र जाप के साथ ही हाथ में पुष्प मनोकामना गुटिका मां की तस्वीर के ऊपर छोड़ दें। इसके बाद इस मंत्र का 108 बार जाप करें ‘ॐ शं शैलपुत्री देव्यै: नम:’। आरती उतारें और मां शैलपुत्री की कथा सुनें। अंत में भोग लगाकर प्रसाद सभी लोगों में वितरित कर दें।
स्तोत्र पाठ:
प्रथम दुर्गा त्वंहि भवसागर: तारणीम्।
धन ऐश्वर्य दायिनी शैलपुत्री प्रणमाभ्यम्॥
त्रिलोजननी त्वंहि परमानंद प्रदीयमान्।
सौभाग्यरोग्य दायनी शैलपुत्री प्रणमाभ्यहम्॥
चराचरेश्वरी त्वंहि महामोह: विनाशिन।
मुक्ति भुक्ति दायनीं शैलपुत्री प्रणमाम्यहम्॥
मां शैलपुत्री की कथा: कथा के अनुसार एक बार प्रजापति दक्ष ने एक विशाल यज्ञ किया। जिसमें उसने सारे देवी-देवताओं को आमंत्रित किया था लेकिन उसने भगवान शिव को उस यज्ञ के लिए निमंत्रण नहीं भेजा था। जब माता सती को पता चला की उनके पिता ने एक बहुत बड़े यज्ञ का आयोजन किया है तब उनका मन वहां जाने का हुआ। माता सती ने अपनी यह इच्छा भगवान शिव को जाकर बताई।
तब भगवान शिव ने उन्हें समझाया कि पता नहीं क्यों लेकिन प्रजापति दक्ष हमसे रुष्ट है इसलिए उन्होंने अपने यज्ञ में सभी देवताओं को निमंत्रित किया है लेकिन मुझे इसका आमंत्रण नहीं भेजा और न ही कोई सूचना भेजी है। इसलिए तुम्हारा वहां जाना ठीक नहीं है लेकिन माता सती ने भगवान शिव की बात नहीं मानी। माता सती की अपने माता-पिता और बहनों से मिलने की बहुत इच्छा थी।
उनकी जिद्द के आगे भगवान शिव की एक न चली और उन्हें माता सती को उनके पिता के यज्ञ में जाने की अनुमति देनी ही पड़ी। माता सती खुशी-खुशी पिता के घर पहुंची। वहां जाकर उन्होंने देखा कि सब उन्हें देखकर भी अनदेखा कर रहे हैं और कोई भी उनसे ठीक प्रकार से बात नहीं कर रहा है। सिर्फ उनकी माता ने ही उन्हें प्रेम से गले लगाया था।
उनकी बहनों की बातों में व्यंग्य था और वह उनका उपहास कर रही थीं। अपने परिवार के लोगों का यह बर्ताव देखकर माता सती को अघात लगा। उन्होंने देखा कि सभी के मन में भगवान शिव के प्रति द्वेष की भावना है। राजा दक्ष ने भगवान शिव का तिरस्कार किया और उनके प्रति अपशब्द भी कहे। यह सुनकर माता सती को अत्यधिक क्रोध आ गया। माता सती को लगा कि उन्होंने भगवान शिव की बात न मानकर बहुत बड़ी गलती कर दी है।
वह भगवान शिव का अपमान सहन नहीं कर सकी और उन्होंने अग्नि में अपने शरीर का त्याग कर दिया। जब भगवान शिव को इस बारे में पता चला तो उन्हें अत्यधिक क्रोध आ गया। उन्होंने अपने गणों को भेजकर उस यज्ञ को पूरी तरह से खंडित करा दिया। इसके बाद माता सती ने अपना दूसरा जन्म शैलराज हिमालय के यहां पर लिया। शैलराज के यहां जन्म लेने के कारण वह ‘शैलपुत्री’ नाम से विख्यात हुईं। उपनिषद् के अनुसार इन्हीं ने हैमवती के रूप में देवताओं का गर्व-भंजन किया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *