देशभर में मनाई जा रही है श्री कृष्ण जन्माष्टमी, आज के ही दिन द्वापर युग में भगवान श्रीकृष्ण ने कंस का वध करने के लिए जन्म लिया था

रुड़की । हिन्दी पंचांग के अनुसार, आज भाद्रपद मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि है। आज 30 अगस्त 2021 और दिन सोमवार है। आज श्रीकृष्ण जन्माष्टमी है। आज के ही दिन द्वापर युग में भगवान श्रीकृष्ण ने कंस का वध करने के लिए जन्म लिया था। इस जन्माष्टमी पर जयंती योग बन रहा है। रोहिणी नक्षत्र और हर्षण योग सुबह से ही बन रहा है, वहीं सर्वार्थ सिद्धि योग भी पूरे दिन है। बाल गोपाल कृष्ण का जन्म भी हर्षण योग और रोहिणी नक्षत्र में हुआ था। जन्माष्टमी के दिन लोग व्रत रखते हैं और रात्रि प्रहर के मुहूर्त में श्रीकृष्ण जन्मोत्सव मनाते हैं। जो लोग संतान की कामना करते हैं, वे व्रत रखते हुए संतान प्राप्ति मंत्र का जाप करते हैं। आज के पंचांग में राहुकाल, शुभ मुहूर्त, दिशाशूल के अलावा सूर्योदय, चंद्रोदय, सूर्यास्त, चंद्रास्त आदि के बारे में भी जानकारी दी जा रही है।
दिन: सोमवार, भाद्रपद मास, कृष्ण पक्ष, अष्टमी तिथि।

आज का दिशाशूल: पूर्व।

आज का राहुकाल: प्रात: 07:30 बजे से 09:00 बजे तक।

आज का पर्व एवं त्योहार: श्रीकृष्ण जन्माष्टमी, श्रीकृष्ण जयंती, श्री संत ज्ञानेश्वर जयंती।

विक्रम संवत 2078 शके 1943 दक्षिणायन, उत्तरगोल, वर्षा ऋतु भाद्रपद मास कृष्ण पक्ष की अष्टमी 26 घंटे तक, तत्पश्चात् नवमी कृतिका नक्षत्र 06 घंटे 39 मिनट तक, तत्पश्चात् रोहिणी नक्षत्र व्याघात योग 07 घंटे 46 मिनट तक, तत्पश्चात् हर्षण योग वृष में चंद्रमा।
आज जन्माष्टमी के दिन भगवान श्रीकृष्ण के जन्मोत्सव का मुहूर्त रात 11 बजकर 59 मिनट से देर रात 12 बजकर 44 मिनट तक है। आज भगवान श्रीकृष्ण के बाल स्वरूप की पूजा करते हैं।

पुत्र प्राप्ति मंत्र

ऊं देवकी सुत गोविंद वासुदेव जगत्पते।

देहि मे तनयं कृष्ण त्वामहं शरणं गत:।।

जो लोग संतानहीन हैं, उनको इस मंत्र का जाप व्रत रखते हुए करना चाहिए।
सूर्योदय और सूर्यास्त

आज जन्माष्टमी के दिन सूर्योदय प्रात:काल 05 बजकर 58 मिनट पर हुआ है, वहीं सूर्यास्त शाम को 06 बजकर 45 मिनट पर होगा।

आज का शुभ समय

हर्षण योग: आज सुबह 07 बजकर 47 मिनट से प्रारंभ।

रोहिणी नक्षत्र: आज सुबह 06 बजकर 39 मिनट से प्रारंभ।

अभिजित मुहूर्त: आज दिन में 11 बजकर 56 मिनट से दोपहर 12 बजकर 47 मिनट तक।

सर्वार्थ सिद्धि योग: आज प्रात: 06 बजकर 39 मिनट से अगले दिन प्रात: 05 बजकर 59 मिनट तक।

अमृत काल: आज यह मुहूर्त प्राप्त नहीं है।

विजय मुहूर्त: दोपहर 02 बजकर 29 मिनट से दोपहर 03 बजकर 20 मिनट तक।

चंद्रोदय और चंद्रास्त

आज का चंद्रोदय रात 11 बजकर 35 मिनट पर होगा। चंद्र के अस्त का समय अगले दिन दोपहर 12 बजकर 58 मिनट पर है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.