खुद की राइफल की गोली लगने से छात्रवृत्ति घोटाले का पर्दाफाश करवाने वाले सामाजिक कार्यकर्ता लांबा की मौत, लांबा की गोली लगने से मौत होने से पुलिस में हड़कंप

हरिद्वार । अनुसूचित जाति एवं जनजाति के छात्रवृत्ति घोटाले का पर्दाफाश करवाने वाले सामाजिक कार्यकर्ता पंकज लांबा की शुक्रवार देर रात खुद की राइफल से गोली लगने से मौत हो गई। घटना हरिद्वार की रानीपुर कोतवाली के सुमन नगर क्षेत्र की है। रानीपुर कोतवाली पुलिस ने इसकी पुष्टि की है। 46 वर्षीय पंकज लांबा शिवालिक नगर में किराये पर रहते थे। शुक्रवार रात लांबा दो दोस्तों के साथ सुमन नगर स्थित अपने परिचित के घर गए थे। परिचित ने दिल्ली में दूसरी शादी कर ली है, जबकि उनकी दो लड़कियां और दो बेटे सुमन नगर में रहते हैं। चारों बच्चे नाबालिग हैं। पुलिस के मुताबिक पंकज लांबा ने दोस्तों के साथ मिलकर नाबालिग बच्चों के साथ पार्टी की। पंकज रात करीब 11 बजे 15 साल की नाबालिक बच्ची की जिद पर अपनी राइफल की मैगजीन निकालकर उसे दे दी। बच्ची ने ट्रिगर दबाया तो चैंबर में फंसी गोली चल गई और पंकज लांबा को लग गई। आनन-फानन में पंकज लांबा को अस्पताल ले जाया गया और चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया। पंकज लांबा की शिकायत पर ही वर्ष 2011-12 से वर्ष 2016 तक अनुसूचित जाति जनजाति छात्रवृत्ति घोटाले का खुलासा हो सका है। घोटाले में कुछ दिन पहले ही एसआईटी ने एक आरोपी को सहारनपुर से गिरफ्तार भी किया है। लांबा की गोली लगने से मौत होने से पुलिस में हड़कंप मचा है। पुलिस मौके पर पहुंचकर जांच पड़ताल में जुट गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *