मध्यम परिवारों के लिए आर्थिक पैकेज जारी करे सरकार, भारतीय किसान यूनियन अंबावत के राष्ट्रीय महासचिव हाजी राव इरशाद ने चीनी मिलों से गन्ने का भुगतान जल्द दिलाए जाने की मांग भी उठाई

रुड़की । भारतीय किसान यूनियन अंबावता के राष्ट्रीय महासचिव हाजी राव इरशाद ने किसानों और मध्यम वर्ग के परिवारों को आर्थिक पैकेज दिए जाने की मांग की है। उन्होंने कहा है कि जब तक सरकार मध्यम वर्ग के परिवारों और किसानों की ओर ध्यान नहीं देगी तब तक आर्थिक गतिविधियां तेज नहीं हो सकेगी। उन्होंने कहा है कि लॉक डाउन में सबसे अधिक दिक्कत मध्यमवर्ग परिवारों के सामने आई है । उन्हें न तो सरकारी तौर पर कोई मदद मिली है और ना ही वह खुलकर किसी से मदद मांग सकते हैं । इसीलिए वह आर्थिक दिक्कतों के चलते घुटन में जीवन जी रहे है। भाकियू के राष्ट्रीय महासचिव हाजी राव इरशाद ने कहा है कि सरकार को अब सबसे पहले मध्यम वर्ग के परिवारों के बिजली और पानी के बिल माफ करने चाहिए । कम से कम पांच ₹5000 की आर्थिक मदद जल्द से जल्द मध्यम परिवार के बैंक खाते में भेजनी चाहिए। भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय महासचिव ने सहकारी और गन्ना समितियों के माध्यम से किसानों को पर्याप्त मात्रा में खाद खाद उपलब्ध कराए जाने की भी मांग की है ।उन्होंने कहा है कि अधिकतर क्षेत्रों में खाद की किल्लत है ।जिस कारण किसान परेशान हैं फिलहाल एक वह हरे चारे की फसल में खाद का छिड़काव होना है लेकिन खाद ना होने के कारण किसान लाचार है। उन्होंने राज्य सरकार से मांग की है कि धान का बीज जल्द से जल्द किसानों को भेजा जाना चाहिए। इस बार धान व खरीफ की अन्य फसलों के बीज पर अधिक अनुदान दिया जाना चाहिए। भाकियू अंबावत के राष्ट्रीय महासचिव हाजी राव इरशाद ने चीनी मिलों से जल्द से जल्द गन्ने का बकाया भुगतान दिलाए जाने की भी मांग उठाई है। उन्होंने कहा कि यदि चीनी मिल फिलहाल तीस चालीस फीसद गन्ने का भुगतान सप्ताह भर के भीतर कर दें। तो इससे भी किसान मजदूर की आर्थिक दिक्कतें काफी कम हो जाएंगी। खेती-बाड़ी के विकास में तेजी आएगी वह ग्रामीण अंचल की आर्थिकी मजबूत होगी उन्होंने कहा है कि केंद्र और राज्य सरकार को गन्ने भुगतान पर विशेष ध्यान देना चाहिए। उन्होंने सभी औद्योगिक इकाइयों में 70 फीसद स्थानीय युवकों को रोजगार दिए जाने की भी मांग की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *