बाबा साहब डाॅ भीमराव आंबेडकर ने जाति प्रथा का पूर्ण रूप से उन्मूलन कर इंसानियत की नींव रखी: सुशील पेंगोवाल, अनुसूचित विभाग कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष को डाॅ. बी. आर. अंबेडकर समाज कल्याण समिति ने समाज में उत्कृष्ट कार्य करने पर किया सम्मानित

रुड़की । डाॅ. बी. आर. अंबेडकर समाज कल्याण समिति द्वारा अनुसूचित विभाग कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष सुशील पेंगोवाल को समाज के हित में कार्य करने पर सम्मानित किया गया। बुधवार को डाॅ भीमराव आंबेडकर की जयंती के अवसर पर निगम सभागार में आयोजित कार्यक्रम में अनुसूचित विभाग कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष सुशील पेंगोवाल को समिति अध्यक्ष सोमपाल सिंह ने स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया। इस दौरान कांग्रेस नेता सुशील पेंगोवाल ने कहा कि बाबा साहब ने पहचान एक न्यायविद, अर्थशास्त्री, राजनीतिज्ञ और समाज सुधारक के रूप में होती है। डॉ. बी.आर. अंबेडकर का जन्म 14 अप्रैल 1891 को महू, मध्य प्रदेश में हुआ था। बाबासाहेब संविधान निर्माता और आजाद भारत के पहले कानून मंत्री के रूप बने। भारत के संविधान के एक प्रमुख वास्तुकार, अम्बेडकर ने महिलाओं के अधिकारों और मजदूरों के अधिकारों की भी वकालत की। उन्होंने कहा कि जाति प्रथा का पूर्ण रूप से उन्मूलन कर इंसानियत की नींव रखी। उनमें गांधी का सपना और महात्मा बुद्ध की करुणा दोनों थी। इस मौके पर डाॅ. बी. आर. अंबेडकर समाज कल्याण समिति के अध्यक्ष सोमपाल सिंह, कोषाध्यक्ष जगपाल सिंह, महामंत्री इन्द्रराज सिंह, विकास, रोहित आदि मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.