बैंक शाखाओं पर एनपीए बढ़ने पर नाराज हुए डीसीबी अध्यक्ष प्रदीप चौधरी, मैनेजरों को दी कड़ी चेतावनी

रुड़की । जिला सहकारी बैंक की शाखाओं पर एनपीए बढ़ने पर डीसीबी अध्यक्ष प्रदीप चौधरी ने सख्त नाराजगी व्यक्त की है। आज इस संबंध में उन्होंने रुड़की बीटी गंज स्थित जिला मुख्यालय पर सभी शाखा प्रबंधको व जिला सहकारी बैंक के उप महाप्रबंधको की बैठक ली। जिला सहकारी बैंक अध्यक्ष प्रदीप चौधरी ने बारी बारी से सहकारी बैंक की सभी शाखाओं की प्रगति रिपोर्ट जांची। जब उन्होंने देखा कि जिला सहकारी बैंक की शाखाओं पर एनपीए बढ़ता जा रहा है तो उन्होंने शाखा प्रबंधको और जिला सहकारी बैंक के उप महाप्रबंधको की कार्यशैली के प्रति नाराजगी जताई। उन्होंने कहा कि यदि शाखाओं पर एनपीए बढ़ रहा है तो इसका मतलब जिला सहकारी बैंक स्तर से सख्त सुपर विजन नहीं हो रहा है। उन्होंने कहा है कि सख्त सुपर विजन जारी रहने पर एनपीए बढ़ने का कोई सवाल ही नहीं। उन्होंने स्पष्ट निर्देश दिए हैं कि एनपीए खातों पर कार्रवाई करें । जिला सहकारी बैंक अध्यक्ष प्रदीप चौधरी ने इस बात के लिए अफसोस जताया कि इकबालपुर शाखा जोकि 1 साल से ही संचालित हुई है उस पर भी एनपीए बढ़ गया है। लक्सर शाखा पर 8 करोड एनपीए है। यदि शाखाओं पर इतना अधिक एनपीए होगा तो ऐसे में जिला सहकारी बैंक की प्रगति थम जाएगी। इसीलिए शाखा प्रबंधकों और जिला सहकारी बैंक के उप महाप्रबंधको को सतर्कता और जिम्मेदारी के साथ काम करना होगा। जिला सहकारी बैंक अध्यक्ष प्रदीप चौधरी ने कहा कि किसानों को ऋण वितरित करने में जरा भी कोताही न बरती जाए।

लेकिन ऐसे लोगों को बैंक शाखाओं व समितियों के माध्यम से ऋण न दिया जाए जिनकी नीयत ठीक नहीं है। यदि ऋण जारी करते समय ही सावधानी बरतनी जाए तो एनपीए बढ़ने का कोई सवाल ही नहीं होता। इसीलिए उप महाप्रबंधक देहात क्षेत्र में जाकर शाखाओं का निरीक्षण करें और वहां की प्रगति पर निगरानी रखें। जिला सहकारी बैंक के महाप्रबंधक/सचिव सीके कमल ने कहां है कि एनपीए कम करने के तेजी से प्रयास किए जाएं। उन्होंने सभी शाखाओं की प्रगति रिपोर्ट जिला सहकारी बैंक अध्यक्ष के समक्ष रखी। उन्होंने बताया कि पूर्व में बहुत ही गलत तरीके से ऋण वितरित किए गए हैं। जिस कारण एनपीए बढ़ा है। वहीं आज की बैठक में जिला सहकारी बैंक अध्यक्ष प्रदीप चौधरी ने संकेत दिए कि जहां पर एनपीए कम हो नहीं हो रहा है वहां के शाखा प्रबंधकों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। जिनके द्वारा पूर्व में आंख मूंदकर ऋण वितरित किया गया है उन पर भी सख्त कार्रवाई होगी। जिला सहकारी बैंक के महाप्रबंधक /सचिव ने कहा है कि एनपीए कम करने के लिए अब कार्ययोजना बनाई जाएगी। वसूली अभियान शुरू होगा। उन्होंने शाखा प्रबंधकों से कहा है कि वह एनपीए पर गंभीरता बरतें। ताकि लोगों में यह संदेश चला जाए कि सहकारी बैंक ऋण वसूली के प्रति पूरी तरह सजग हैं। सरफेसी एक्ट के अंतर्गत बकायेदारों पर कार्यवाही से पूर्व पत्रावली को पूर्ण कर लें। आज की बैठक में अन्य कई निर्णय भी लिए गए। इसमें जिला सहकारी बैंक अध्यक्ष और सभी शाखाओं का खुद निरीक्षण करेंगे और वहां की प्रगति चेक करेंगे। जिला सहकारी बैंक की विशेष टीम भी सभी शाखाओं का निरीक्षण करने पहुंचेंगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *