धनतेरस के लिए सज गए शिक्षानगरी रुड़की के बाजार, सोने चांदी के सिक्के और भगवान की मूर्तियों की खूब डिमांड

रुड़की। दो नवंबर को धनतेरस है, इस दिन खरीददारी करना सबसे शुभ माना जाता है। मंदी के दौर से गुजर रहे सराफा कारोबारी और बर्तनों के व्यापारियों को इस दिन अच्छी बिक्री होने की उम्मीद है। शिक्षानगरी के बाजार धनतेरस के लिए पूरी तरह सज गए हैं। बर्तन कारोबारी कई तरह के आर्कषक आफर ग्राहकों के लिए लेकर आए हैं, ताकि इस दिन ज्यादा से ज्यादा कारोबार हो सके। शहर के सिविल लाइंस, बीटी गंज के बाजारों में कारोबारियों ने ज्यादा स्टॉक मंगवाकर रख लिया है। दुकानों को बढ़ाया गया है ताकि ज्यादा रश बढ़ने के दौरान किसी भी तरह की दिक्कत परेशानी ग्राहकों को न हो। धनतेरस के दिन लोग सोने का सिक्का, चांदी का सिक्का, चांदी के बर्तनों की ज्यादा खरीददारी करते हैं। इसके अलावा लक्ष्मी माता और गणेश भगवान मूर्तियां ज्यादा खरीददते हैं। मार्केट में इनकी सबसे ज्यादा डिमांड है। सराफा कारोबारियों ने सोने और चांदी के सिक्कों के अलावा भगवान गणेश और लक्ष्मी माता की छोटी छोटी मूर्तियां तैयार की है।वहीं ज्योतिषाचार्य पंडित रजनीश शास्त्री ने बताया कि दो नवंबर को धनतेरस, धन्वंतरी जयंती और प्रदोष व्रत का उत्सव मनाया जाएगा। इस दिन साढ़े 11 बजे त्रयोदशी तिथि है। मध्यान्ह 12 बजे से एक 45 बजे तक आयुर्वेद के जन्मदाता धनवंतरी के पूजन और हवन के के लिए उत्तम मुहुर्त है। 2 नवंबर सुबह 11:30 बजे के बाद और 3 नवंबर सुबह 9 बजे तक खरीदारी करना सबसे शुभ है। इस दिन सोने, चांदी, बर्तन सहित अन्य चीजों की खरीददारी करना सबसे शुभ माना जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.