उत्तराखंड में मुख्यमंत्री की रेस में ये ब्राह्मण चेहरा, जवाब से बढ़ाया सस्पेंस

देहरादून । उत्तराखंड विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने राज्य की 70 विधानसभा सीटों में से 47 सीटों पर जीत दर्ज की तो कांग्रेस 19 सीटें ही जीत पाई जबकि बसपा ने दो सीट और दो सीटों पर निर्दलीय उम्मीदवारों को जीत मिली।
उत्तराखंड में अब सबसे बड़ा सवाल मुख्यमंत्री की कुर्सी को लेकर है। मुख्यमंत्री की रेस में कई नाम हैं, जिनमें खुद धामी के साथ डॉ. धन सिंह रावत, सतपाल महाराज, रितु खंडूरी, मदन कौशिक, अजय भट्ट, निशंक और अनिल बलूनी शामिल हैं।
इस बीच उत्तराखंड बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक का बड़ा बयान सामने आया है। कौशिक से जब पूछा गया कि मुख्यमंत्री कौन होना चाहिए ? पुष्कर सिंह धामी के नाम पर सहमत हैं या आप खुद ?
कौशक ने जवाब देते हुए कहा- ये हवा में सवाल है जिसको केंद्र जिम्मेदारी देगा वो चेहरा होगा। कौशिक ने आगे कहा कि केंद्र जो आदेश देगा उस पर काम करेंगे। बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष ने साथ ही कहा कि उत्तराखंड को नई ऊंचाइयों पर हर मुख्यमंत्री लेकर गए है आगे भी इस पर काम होगा। इस बीच बड़ी खबर ये है कि मुख्यमंत्री पद की दावेदारी को लेकर भाजपा में चल रही लॉबिंग के बीच शनिवार को कैबिनेट मंत्री सुबोध उनियाल भी दिल्ली पहुंच गए हैं। खबर है कि उनियाल पार्टी के शीर्ष नेताओं से भी मुलाकात कर सकते हैं।आपको बता दें कि मुख्यमंत्री की रेस में शामिल कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज पहले से ही दिल्ली में हैं। खबर है कि महाराज ने दिल्ली में पार्टी के कुछ बड़े नेताओं के साथ मुलाकात भी है। आपको बता दें कि उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव पुष्कर सिंह धामी के चेहरे पर लड़ा गया। बीजेपी ने भारी बहुमत हासिल किया लेकिन धामी अपना चुनाव हार गए। धामी का कहना है कि वह खुद चुनाव हार गए, लेकिन पार्टी चुनाव जीत गई। पार्टी नेतृत्व ने उन्हें जो जिम्मेदारी सौंपी उस पर वह खरा उतरे हैं। धामी ने कहा कि चुनाव में यदि अपने क्षेत्र में अधिक समय देते तो शायद चुनाव जीत जाते। लेकिन यदि पार्टी का प्रदर्शन खराब हो जाता तो अपने वरिष्ठ नेतृत्व को क्या जवाब देत। जिसने इतने भरोसे के साथ उन्हें चुनाव कमान सौंपी थी। सीएम ने कहा कि उन्हें संतोष है कि पार्टी चुनाव जीती है और उन्होंने पार्टी नेतृत्व का भरोसा नहीं टूटने दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *