रामदूत अतुलित बल धामा अंजनि-पुत्र पवनसुत नामा, जनपद में श्रद्धापूर्वक मनाया गया पवनपुत्र हनुमान का जन्मोत्सव, कोरोना वायरस से बचाव को लेकर लोगों ने घरों में शारीरिक दूरी बनाकर पूजा अर्चना की

हरिद्वार । कोरोना वायरस के चलते धर्मनगरी में हनुमान जयंती सादगी के साथ घरों में ही मनाई गई। लोगों ने हनुमान चालीसा का पाठ करके कोरोना संकट को दूर करने की प्रार्थना की। हरकी पैड़ी क्षेत्र के हनुमान घाट के पास प्राचीन हनुमान मंदिर में हनुमान जयंती का पर्व सादगी के साथ मनाया गया। मंदिर के महंत रविपुरी महाराज ने बताया कि जयंती पर बिना श्रद्धालुओं के पूर्जा की गई। बताया कि पहले के सालों में जयंती पर हजारों श्रद्धालु भंडारे में प्रसाद ग्रहण करते थे, बजारों से धूमधाम के साथ शोभायात्रा निकाली जाती थी, लेकिन इस बार बिना श्रद्धालुओं के पूजा-अर्चना के बाद हनुमान को लड्डुओं और फलों का भोग लगाया गया। गरीबों को प्रसाद के रूप में फल बांटे गए। लोगों ने घरों में ही पूजा-अर्चना कर हनुमान जयंती मनाई। धर्मनगरी के प्राचीन अवधूत मंडल आश्रम में स्थित हनुमान मंदिर, कुशावर्त घाट के निकट स्थित प्राचीन सिद्ध हनुमान मंदिर, निरंजनी अखाड़े के हनुमान मंदिर, बिरला घाट के पास स्थित हनुमान मंदिर, पंचमुखी हनुमान मंदिर के दरवाजे बंद रहे। हिदू रक्षा सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष व बालाजी धाम आश्रम के परमाध्यक्ष महामंडलेश्वर स्वामी प्रबोधानंद गिरी महाराज ने कहा कि संकट मोचक बजरंग बली हनुमान जी की कृपा से कोरोना महामारी जल्द ही समाप्त होगी। इस दौरान शारीरिक दूरियों का पालन करते हुए हुए रामचरित्र मानस व सुंदर कांड का पाठ कर बजरंग बली हनुमान जी से कोरोना महामारी से देश की रक्षा करने की प्रार्थना की गयी। अखंड परशुराम अखाड़ा के अध्यक्ष पंडित अधीर कुमार कौशिक ने हनुमान के जन्मोत्सव पर अपने घर में ही रहकर हनुमान के चित्र के समक्ष दीप जलाकर पंचमुखी हनुमान कवच का पाठ किया। इस दौरान उन्होंने कोराना जैसी भयंकर बीमारी के समूल नष्ट की प्रार्थना हनुमानजी से की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *