योग हमारी पुरानी परंपरा, प्रधानमंत्री मोदी ने इसे अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मान्यता दिलाई, भाजपा जिला मंत्री अनामिका शर्मा ने दी अंतरराष्ट्रीय योग दिवस की शुभकामनाएं, कहा योग ने विश्व में हमारी संस्कृति को बढ़ाने का काम किया

हरिद्वार । भाजपा जिला मंत्री अनामिका शर्मा ने सभी को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस की शुभकामनाएं और बधाई दी है। इस अवसर पर अनामिका शर्मा ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय योग योग दिवस 21 जून को मनाया जाता है। यह दिन वर्ष का सबसे लम्बा दिन होता है और योग भी मनुष्य को दीर्घ जीवन प्रदान करता है। पहली बार यह दिवस 21 जून 2015 को मनाया गया, जिसकी पहल भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 27 सितम्बर 2014 को संयुक्त राष्ट्र महासभा में अपने भाषण से की थी। जिसके बाद 21 जून को ” अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस” घोषित किया गया. 11 दिसम्बर 2014 को संयुक्त राष्ट्र में 177 सदस्यों द्वारा 21 जून को ” अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस” को मनाने के प्रस्ताव को मंजूरी मिली. प्रधानमंत्री मोदी के इस प्रस्ताव को 90 दिन के अंदर पूर्ण बहुमत से पारित किया गया, जो संयुक्त राष्ट्र संघ में किसी दिवस प्रस्ताव के लिए सबसे कम समय है।भारतीय योग जानकारों के अनुसार योग की उत्पत्ति भारत में लगभग 5000 वर्ष से भी अधिक समय पहले हुई थी। योग के ऐतिहासिक प्रमाणों से जुड़ी सबसे आश्चर्यजनक खोज 1920 के शुरुआत में हुई। 1920 में पुरातत्व वैज्ञानिकों ने सिंधु सरस्वती सभ्यता को खोजा था जिसमें प्राचीन हिंदू धर्म और योग की परंपरा होने के सबूत मिलते हैं। सिंधु घाटी सभ्यता को 3300-1700 ईसा पूर्व पुरानी है। योग पर लिखा गया सर्वप्रथम सुव्यवस्थित ग्रंथ है “योगसूत्र”, इसे महर्षि पतंजलि ने लिखा था। पतंजलि ने अष्टांग योग में योग को आठ सूत्रों में बताया गया है। यह आठ अंग के अपने-अपने उप अंग भी हैं। वर्तमान में योग के तीन ही अंग प्रचलन में हैं आसन, प्राणायाम और ध्यान। तनाव अपने आप में एक बीमारी है जो कई अन्य बीमारियों को निमंत्रण देता है। इस तथ्य को चिकित्सा विज्ञान भी स्वीकार करता है। योग का एक महत्वपूर्ण फायदा यह है कि यह तनाव से मुक्ति प्रदान करता है। योग मुद्रा, ध्यान और योग में श्वसन की विशेष क्रियाओं द्वारा तनाव से राहत मिलती है, योग मन को विभिन्न विषयों से हटाकर स्थिरता प्रदान करता है और कार्य विशेष में मन को स्थिर करने में सहायक होता है तनाव मुक्त होने से शरीर और मन पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है, कार्य करने की क्षमता भी बढ़ती है। योग शरीर को सेहतमंद बनाए रखता है और कई प्रकार की शरीरिक और मानसिक परेशानियों को दूर करता है। योग श्वसन क्रियाओं को सुचारू बनाता है, योग के दौरान गहरी सांस लेने से शरीर तनाव मुक्त होता है, योग से रक्त संचार भी सुचारू होता है और शरीर से हानिकारक टाक्सिन निकल आते हैं। यह थकान, सिरदर्द, जोड़ों के दर्द से राहत दिलाता है एवं ब्लड प्रेशर को सामान्य बनाए रखने में भी सहायक होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *