डीडीओ कोड बहाली को आयुवेर्दिक कर्मचारियों का गुस्सा बेकाबू, आयुर्वेदिक कॉलेजों में जड़े ताले

हरिद्वार । बुधवार को डीडीओ कोड बहाली को राजकीय आयुवेर्दिक कर्मचारियों का गुस्सा बेकाबू हो गया। विवि प्रशासन पर उपेक्षा का आरोप लगाते हुए कर्मचारियों ने ऋषिकुल और गुरुकुल आयुर्वेदिक अस्पताल और कार्यालय में ताले जड़ दिए। चतुर्थ श्रेणी राज्य कर्मचारी संघ (चिकित्सा एवं स्वास्थ्य) की आयुर्वेदिक इकाई के अध्यक्ष छतरपाल ने तो ऋषिकुल अस्पताल में जमकर तोड़फोड़ की। डीडीओ कोड बहाली की मांग को लेकर राजकीय आयुर्वेदिक कर्मचारियों ऋषिकुल और गुरुकुल आयुर्वेदिक कॉलेज में जोरदर प्रदर्शन किया। विवि प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी करते हुए कर्मचारियों ने पहले गुरुकुल आयुर्वेदिक कॉलेज की ओपीडी और कार्यालय में तालाबंदी की। इस दौरान कॉलेज प्रशासन ने किसी तरह का विरोध प्रकट नहीं किया। इसके बाद अक्रोशित कर्मचारी नारेबाजी करते हुए ऋषिकुल आयुर्वेदिक कॉलेज के परिसर में पहुंचे। यहां चतुर्थ श्रेणी राज्य कर्मचारी संघ (चिकित्सा एवं स्वास्थ्य) की आयुर्वेदिक इकाई के अध्यक्ष छतरपाल अचानक बेहद उग्र हो गए। अस्पताल पंचकर्म कक्ष में कुछ चिकित्सक बैठे थे। छतरपाल ने दरवाजे पर लाते बरसाते हुए चिकित्सकों को बाहर निकलने के लिए कहने लगे। इसके बाद उन्होंने बाहर पड़ी कुर्सी को कई बार पटका। अध्यक्ष ने ऑपरेशन थिएटर के बाहर रखे फर्नीचर को फेंककर अपना गुस्सा जाहिर किया। चतुर्थ श्रेणी राज्य कर्मचारी संघ (चिकित्सा एवं स्वास्थ्य) के प्रदेश महामंत्री दिनेश लखेड़ा ने अध्यक्ष छतरपाल को थामा। इसके बाद कर्मचारी ऋषिकुल आयुवेर्दिक परिसर में ही धरने पर बैठ गए। कर्मचारियों ने कहा कि गुरुवार को भी दोनों आयुर्वेदिक कॉलेज के परिसर में ताले लगे रहेंगे। प्रदर्शन करने वालों में खीमानंद भट्ट, मोहित मिनोचा, धीरज उपाध्याय, पूनम सिंह, समीर पांडेय, चंद्रप्रकाश, नितिन कुमार, राकेश, दीपक यादव, दिलबर सिंह सत्कारी, रमेश तिवारी, अशोक चंद्रा, मंजू पांडेय, बीना शुक्ला, रविशंकर ज्योति नेगी, दिनेश कुमार, कल्लू, विनोद कश्यप, अनिल कुमार, रमेश पंत, मोहित, ताजबर सिंह, लक्ष्मण प्रसाद वर्मा, आशुतोष गैरोला, बबलू, अरुण कुमार, आनंदी शर्मा, कांता देवी, कला देवी, कला नैनवाल, शकुंतला, बीना मठपाल, नीता राणा, संध्या रतूड़ी, पूजा, चंद्रकला, बाला देवी बुगली, डोली कुसुम, विमला आदि शामिल रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.