हरिद्वार विकास भवन में सहकारिता की समीक्षा बैठक हुई, एनपीए ऋण में वसूली के लिए तेजी के निर्देश, कहा समितियों ने 15% 20% ऋण वसूली कर ली, वह मार्च के प्रथम सप्ताह तक 50% वसूली बढ़ाएं

हरिद्वार । विकास भवन में आज सहकारिता की समीक्षा बैठक हुई। इस बैठक में जनपद हरिद्वार की सहकारिता विभाग के बड़े अधिकारी, कृषि विभाग के अधिकारी, चेयरमैन , पैक्स समितियों के सचिव किसान समितियों के एमडी उपस्थित थे। सहकारिता संगोष्ठी में मुख्य अतिथि के रुप में उत्तराखंड राज्य सहकारिता परिषद के उपाध्यक्ष हयात सिंह मेहरा ने उपस्थित सभी पैक्स समितियों व किसान समितियों के की एनपीए समीक्षा बैठक की। सचिवों और प्रबंधक निदेशक से कहा कि वह एनपीए ऋण में वसूली के लिए तेजी लाएं। जिन समितियों ने 15% 20% ऋण वसूली कर ली है वह मार्च के प्रथम सप्ताह तक इसे 50% वसूली बढ़ाएं। बहुद्देशीय समितियां सिर्फ खाद बीज के अलावा अन्य कार्य भी प्रारंभ करें ताकि वह और प्रॉफिट में आ जाये । उन्होंने कहा एनपीए वसूली में 5 मार्च तक समीक्षा होगी। उपसभापति मेहरा ने कहा कि समितियां वसूली के लिए विशेष अभियान चलाएं वह ओपन कार्ड के माध्यम से बकायेदारों को नोटिस भेजे। हरिद्वार डिस्टिक कोऑपरेटिव बैंक रुड़की के चेयरमैन प्रदीप चौधरी और सचिव/ महाप्रबंधक सी के कमल ने अब तक वसूले गए एनपीए का डाटा पेश किया। उन्होंने कहा बैंक कर्मचारी और अधिकारी NPA वसूली में बड़ी गंभीरता से लगे हैं। तथा सभी डीसीबी शाखाओं से जीरो प्रतिशत ब्याज पर किसानों को ऋण दिया जा रहा है। इस अवसर पर गढ़वाल मंडल के उपनिबंधक मान सिंह सैनी ने कहा कि हरिद्वार सहकारिता विभाग बड़ी तेजी से आगे बढ़ रहा है। सहकारिता विभाग से जनपद हरिद्वार के गांव को बड़ा लाभ हो रहा है। किसानों को 0% ऋण पाने लिए गांव गांव जाकर प्रेरित किया जा रहा है। अब तक किसानों को 0% ब्याज पर करोड़ों रुपये ऋण दिया जा चुका है। 8 मार्च को हरिद्वार जिले की 100 महिला समूह को 5 – 5 लाख रुपये का ऋण दिया जाएगा इसकी पूरी तैयारियां हरिद्वार जनपद और गढ़वाल मंडल में पूरी कर ली गई है। उप निंबन्धक सैनी ने कहा बकायेदारों पर 95 क के तहत कार्यवाही की जाए। इस मौके पर निदेशक सुशील राठी, अपर निदेशक कृषि डॉ परमानंद प्रजापति, मुख्य कृषि अधिकारी हरिद्वार डॉ विकेश सिंह यादव, एडीसीओ श्रीअरविंद जोशी, एडीओ श्री अमित कुमार, एडीओ श्रीमती कल्याणी, एडीओ कुलबीर सिंह आदि अफसर , सचिव, एमडी सहित 43 समितियो के अधिकारी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *