कैंसर के मरीज़ डाइट में इन 5 फूड्स को करें शामिल, बीमारी से लड़ने में मिलेगी मदद

बदलती जीवनशैली और खान-पान हमें जाने अनजाने में खतरनाक बीमारियों का शिकार बना रहे हैं। कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी की तमाम वजहों में से एक खराब लाइफस्टाइल भी है। इसके अलावा बढ़ता प्रदूषण, नशीले पदार्थों की लत, खाद्य पदार्थों में रसायनों का अत्यधिक उपयोग कुछ ऐसे कारण हैं जिनकी वजह से पिछले कुछ सालों में कैंसर के मामलों में बढ़ोतरी हुई है।विशेषज्ञ कहते हैं कि कैंसर को ठीक करने और उसे रोकने के लिए डेली डाइट में कुछ ऐसे फूड्स को शामिल करने की जरूरत है जिनसे कैंसर के शुरुआती लक्षणों से लड़ने में मदद मिल सके।

लाइफस्टाइल में बदलाव: स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार कैंसर से बचाव करने के लिए अपने वज़न पर नियंत्रण रखना चाहिए। इसके साथ ही दिन में कम से कम आधा घंटा एक्सरसाइज या वॉक जरूर करें। मीठी चीज़ों का अधिक सेवन करने से बचें। डाइट में हरी सब्जिया, फल और साबुत अनाज को शामिल करें। इसके अलावा नशीले पदार्थों से दूरी बनाने के साथ खाने में नमक का सेवन कम करें।

हल्दी का सेवन करें: अध्ययनों के अनुसार हल्दी में मौजूद करक्यूमिन कैंसर से लड़ने में कारगर होता है। हल्दी में एंटी-ट्यूमर गुण शामिल होते हैं। विशेषज्ञों की माने तो करक्यूमिन शरीर के अंदर कैंसर विरोधी गतिविधि उत्पन्न करने के लिए कुछ प्रोटीनों के साथ परस्पर क्रिया करता है। कैंसर रोगियों की रक्षा करने में हल्दी मददगार साबित होती है।

सेब का करें सेवन: सेब पॉलीफेनोल्स नामक प्लांट बेस यौगिकों से भरपूर होते हैं, जो सूजन, दिल के रोग और संक्रमण को रोकते हैं। कुछ अध्ययनों के अनुसार सेब में पॉलीफेनोल्स में कैंसर रोधी और ट्यूमर से लड़ने वाले गुण भी मौजूद होते हैं। जर्नल ऑफ फूड एंड ड्रग एनालिसिस में 2018 में किए गए एक शोध के अनुसार, सेब Phloretin स्तन कैंसर की कोशिकाओं के विकास को रोकता है। सेब खाने का सबसे अच्छा तरीका है कि आप साबुत जैविक सेब खाएं। (यह भी पढ़े- ऐसी महिलाओं को यूट्रस कैंसर होने का होता है सबसे ज्यादा खतरा, जानिये क्या हैं लक्षण)

हरी सब्जियों का सेवन: हरी पत्तेदार सब्जियां जैसे केल, ब्रोकली और फूलगोभी में मिनरल्स, विटामिन और एंटी कैंसर यौगिक भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं जो कैंसर और ट्यूमर को बढ़ने से रोकते हैं। क्रूसिफेरस सब्जियों में सल्फोराफेन नामक यौगिक भी होता है, जिसमें कैंसर रोधी गुण होते हैं।

एक शोध के मुताबिक Sulforaphane कैंसर कोशिका वृद्धि को रोकता है। इसके अलावा गाजर का सेवन करें। गाजर में मिनरल, विटामिन्स और एंटीऑक्सिडेंट भरपूर होता है। इसके अलावा गाजर में उच्च मात्रा में बीटा-कैरोटीन होता है, जो कई प्रकार के कैंसर को रोकता है और उसे ठीक करने में मदद करता है।

अखरोट का करें सेवन: अखरोट खाने से कई तरह के कैंसर से भी बचा जा सकता है। अमेरिकन इंस्टीट्यूट फॉर कैंसर रिसर्च के अनुसार, अधिकांश नट्स में कैंसर से बचाव के गुण मौजूद होते हैं। अध्ययनों में यह भी दावा किया गया है कि अखरोट में कैंसर से लड़ने की ज्यादा क्षमता होती है। चूहों पर किए गए एक परीक्षण के अनुसार, अखरोट के तेल में उच्च ट्यूमर को कम करने वाले गुण भी मौजूद होते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.