बार-बार यूरिन आना हो सकता है इस बीमारी का लक्षण, खानपान में तुरंत कर लें बदलाव

बार बार पेशाब आना एक ऐसी परेशानी है जिसे अक्सर महिलाएं मामूली बात समझकर नज़रअंदाज़ कर देती हैं। आप जानती हैं कि ज्यादा पेशाब का आना यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन का कारण हो सकता है। ये इंफेक्शन यूरिनरी सिस्टम के किसी भी हिस्से में होने वाला इंफेक्शन है। जब मूत्रमार्ग के किसी भी हिस्से में बैक्टीरिया जमा हो जाते हैं तो उस हिस्से में सूजन और जलन होने लगती है। ये बैक्टीरिया मूत्र नली में सूजन पैदा करते हैं जिसकी वजह से पेशाब में जलन हो सकती है। ये यूरिनरी ट्रैक्ट के जरिए शरीर में घुस जाते हैं और ब्लैडर व किडनी को नुकसान पहुंचाते हैं। महिलाओं में यूरीन इंफेक्शन की शिकायत टीनऐज से ही देखने को मिलती है। कई रिसर्च में ये बात सामने आई है कि महिलाओं को जीवन में यूरीन इंफेक्शन जरूर होता है। आइए जानते हैं कि इस इंफेक्श के कारण क्या हैं और डाइट से इस बीमारी का उपचार कैसे करें।

यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन का कारण: पेशाब करने के बाद मूत्रमार्ग को पीछे से आगे पोछने की वजह से बैक्टीरिया मूत्रमार्ग में प्रवेश करने लगते हैं जो इंफेक्शन को बढ़ाते हैं। पुरुषों की तुलना में महिलाओं का मूत्रमार्ग छोटा होता है जिसकी वजह से बैक्टीरिया को मूत्राशय में जाने में आसानी होती है।

सेक्स के दौरान यूरिनरी ट्रैक्ट में भी बैक्टीरिया जाने से भी इंफेक्शन हो सकता है।
पब्लिश टॉयलेट का इस्तेमाल करने से बैक्टीरियां मूत्रमार्ग में प्रवेश करते हैं जिससे इंफेक्शन का खतरा होता है।
जब टॉयलेट वाले गंदे पानी की छींटें आ जाएं तब भी बैक्टीरिया मूत्रमार्ग में प्रवेश कर सकते हैं।
हार्मोन परिवर्तन, मल्टीपल स्केलेरोसिस, गुर्दे की पथरी, स्ट्रोक और रीढ़ की हड्डी की चोट भी यूरीन को प्रभावित करती है।

लिक्विड चीज़ों का सेवन करें: यूरीन इंफेक्शन से बचाव करने के लिए ज्यादा से ज्यादा पानी पीएं। लिक्विड चीज़ों का सेवन करने से पेशाब पतला होता है। लिक्विड चीजों का अधिक सेवन संक्रमण शुरू होने से पहले आपके मूत्र मार्ग से बैक्टीरिया को बाहर निकालता है।

करौंदा का जूस पिएं। करौंदा बहुत ही स्वादिष्ट और फायदेमंद फ्रूट होता है। इसका जूस यूटीआई को रोकता है और सेहत को फायदा पहुंचाता है। आप इंफेक्शन को कम करने के लिए इस जूस का सेवन कर सकते हैं।

आंवला के जूस का सेवन करें: विटामिन सी से भरपूर आंवला का सेवन करने से इम्युनिटी स्ट्रॉन्ग होती है, साथ ही यूरीन इंफेक्शन से भी बचाव होता है। दिन में 4-5 बार आंवले का जूस पिएं यूरीन इंफेक्शन से बचाव होगा।

इन आदतों में भी करें बदलाव

पेशाब करने के बाद पोछने के लिए टीशू पेपर का इस्तेमाल आगे से पीछे की तरफ करें।
सेक्स के तुरंत बाद पेशाब करें ताकि ब्लेडर खाली हो जाए। एक गिलास पानी पीएं ताकि बैक्टीरियां पेशाब के जरिए बाहर निकलें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *