उत्तर प्रदेश में फिर बन सकती है भाजपा की सरकार, एग्जिट पोल में इतनी सीट मिलने का अनुमान

रिपब्लिक टीवी का अनुमान
भाजपा को सीटें: 262-277
सपा को सीटें: 119-134
बसपा को सीटें: 7-15
अन्य को सीटें: 3-8

रिपब्लिक भारत के अनुमान के मुताबिक दलों को सीटें
भाजपा को सीटें: 240 (+-15)
कांग्रेस को सीटें: 0
सपा को सीटें: 140 (+-10)
बसपा को सीटें: 17 (+-15)
अन्य को सीटें: 2 (+-2)

टीवी-9 भारतवर्ष के एग्जिट पोल के अनुसार
यूपी में कुल सीट- 403
भाजपा- 211-225
कांग्रेस- 4-6
सपा- 146-160
बसपा- 14-24
अन्य- 0-0

तमकुही राज सीट से कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू
कुशीनगर की तमकुही राज सीट से कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू खुद चुनाव लड़ रहे हैं। पिछली बार भी अजय लल्लू ने इस सीट पर जीत दर्ज की थी। इस बार उनके खिलाफ भारतीय जनता पार्टी ने असीम कुमार, सपा ने उदय नारायण और बसपा ने संजय को मैदान में उतारा है।

बांसडीह विधानसभा सीट से रामगोविंद चौधरी
बलिया की बांसडीह सीट से समाजवादी पार्टी नेता और विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष राम गोविंद चौधरी चुनाव लड़ रहे हैं। राम गोविंद के खिलाफ भाजपा ने केतकी सिंह, बसपा ने मान्ती राजभर और कांग्रेस ने पुनीत पाठक को अपना उम्मीदवार बनाया है। 2017 में भी इस सीट पर सपा के राम गोविंद चौधरी जीते थे।

फाजिल नगर सीट से मैदान में स्वामी प्रसाद मौर्य
योगी सरकार में मंत्री पद छोड़कर सपा का दामन थामने वाले स्वामी प्रसाद मौर्य इस बार सपा के टिकट पर फाजिल नगर से चुनाव लड़ रहे हैं। स्वामी प्रसाद के खिलाफ भाजपा ने सुरेंद्र कुशवाहा, बसपा ने ईलियास और कांग्रेस ने सुनील मनोज सिंह को मैदान में उतारा है। पिछली बार इस सीट पर भाजपा प्रत्याशी गंगा सिंह कुशवाहा जीते थे।

आजम खां के सामने भाजपा के आकाश
रामपुर शहर सीट से सपा गठबंधन के प्रत्याशी मोहम्मद आजम खान मैदान में हैं, भाजपा से आकाश सक्सेना (हनी), बसपा से सदाकत हुसैन व कांग्रेस से नवाब काज़िम अली खान चुनाव लड़ रहे हैं।

जहूराबाद विधानसभा सीट से ओम प्रकाश राजभर के सामने भाजपा के कालीचरण राजभर
स्वतंत्रता संग्राम सेनानी एवं पूर्व सांसद सरजू पांडेय की कर्मभूमि जहूराबाद विधानसभा क्षेत्र हर चुनाव में किसी न किसी मुद्दे को लेकर चर्चा में रहता है। इस बार यहां से बसपा से शादाब फातिमा, सुभासपा से ओम प्रकाश राजभर और भाजपा से कालीचरण राजभर मैदान में हैं। पिछले विधानसभा चुनाव में ओमप्रकाश राजभर इस क्षेत्र से विधायक बने उस समय वे भाजपा गठबंधन से यहां से जीते थे और पहली बार में ही कैबिनेट मंत्री बनने का अवसर प्राप्त हुआ था। उनका मुकाबला बसपा के कालीचरण चरण राजभर से हुआ था। जिनसे 18081 वोट के अंतर से जीत दर्ज की थी। ओमप्रकाश राजभर का भाजपा के साथ ज्यादा दिन तक संबंध नहीं रहा और एक वर्ष बाद ही उनकी भाजपा से दूरियां बढ़ती गईं और गठबंधन से अलग हो गए। इस चुनाव में ओमप्रकाश राजभर समाजवादी पार्टी के गठबंधन के साथ फिर दूसरी बार किस्मत आजमा रहे हैं।

साल 2017 के विधानसभा चुनाव में दलों को मिलीं सीटें
भारतीय जनता पार्टी 325
सपा-कांग्रेस गठबंधन 47
बहुजन समाज पार्टी 19

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *