किसानों ने गन्ना समिति अधिकारियों को बंधक बनाया, गन्ना पर्ची न भेजे जाने और अन्य समस्याओं के समाधान की मांग को लेकर घेराबंदी

रुड़की । गन्ना पर्ची न भेजे जाने और अन्य समस्याओं के समाधान की मांग को लेकर भारतीय किसान यूनियन कार्यकर्ताओं ने इकबालपुर गन्ना समिति का घेराव कर तालाबंदी की। समिति अधिकारियों को करीब दो घंटे तक बंधक बनाकर अपने साथ धरने में बैठाया। अधिकारियों के समस्याओं के समाधान का लिखित आश्वासन देने के बाद धरना समाप्त हुआ। रुड़की में रेलवे स्टेशन के समीप गन्ना समिति का कार्यालय है। गुरुवार को भाकियू रोड के कार्यकर्ता कार्यालय पहुंचे। प्रदेश अध्यक्ष पदम सिंह रोड ने कहा कि समिति द्वारा किसानों को गन्ने की पर्ची नही दी जा रही है। जिस कारण किसान मिल में गन्ना नहीं भेज पा रहा है। इससे किसानों का गन्ना खेतों में खड़ा होकर बर्बाद हो रहा है। गेहूं की बुआई का काम भी नहीं हो पा रहा है। जब तक गन्ने की कटाई नहीं होगी गेंहू नहीं बोया जा सकता। उन्होंने आरोप लगाया कि शुगर मिल के बाहर का गन्ना खरीद रही है। जिसके कारण स्थानीय किसानों का गन्ना खराब हो रहा है।जिलाध्यक्ष नाजिम अली ने कहा अब तक गन्ने का मूल्य घोषित नहीं हुआ और इकबालपुर मिल पर पिछले कई सालों के भुगतान भी बकाया है। जिसके कारण किसानों को आर्थिक परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। किसान बिजली के बिल और ऋण आदि देने में भी असमर्थ हैं। इस दौरान भाकियू पदाधिकारियों ने समिति कार्यालय में तालाबन्दी कर नारेबाजी की और समिति के ज्येष्ठ गन्ना विकास निरीक्षक दिग्विजय सिंह और सचिव कुलदीप सिंह तोमर को बंधक बनाकर अपने साथ धरने पर बैठाया। बाद में अधिकारियों और किसानों के बीच चार मुददों पर वार्ता हुई। जिसमें किसानों को पर्ची समय से देने, सामान्य गन्ने की खरीद का इंडेंट, समिति से सम्बंधित समस्याओं का समाधान और क्रय केंद्रों का निरीक्षण नियमित करने का आश्वासन समिति अधिकारियों ने लिखित में दिया। धरने का संचालन इंद्रपाल सिंह रोड और अध्यक्षता अनवर सिंह आर्य ने की। इस दौरान संगठन के युवा जिलाध्यक्ष संजीव कुशवाहा, राजबीर रोड, राव इनाम, महेन्द्र सैनी, मंजेश रोड, प्रदीप सिंह त्यागी, शौकत ,राकेश अवनीश, इलियास असलम, पवन रोड, शोभाराम, अवनीश, जसवीर, प्रदीप गुर्जर, नईम खान, वेदपाल, आजाद, सैय्यद हसन आदि मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *